ऑक्सीजन टैंकरों और एम्बुलेंस के लिए खोला गया एक तरफ का रास्ता, संयुक्त किसान मोर्चे ने दिया बयान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   19:49
ऑक्सीजन टैंकरों और एम्बुलेंस के लिए खोला गया एक तरफ का रास्ता, संयुक्त किसान मोर्चे ने दिया बयान

दिल्ली की सीमाओं पर सभी राजमार्गों का एक तरफ का रास्ता आपात सेवाओं के लिए खोला गया।बहरहाल, एसकेएम ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस ने अवरोधक नहीं हटाए हैं। किसान नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर कई महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं।

नयी दिल्ली। संयुक्त किसान मोर्चे (एसकेएम)ने शनिवार को कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर राजमार्गों के एक ओर का रास्ता कोविड-19 संकट के मद्देनजर ऑक्सीजन टैंकरों एवं एम्बुलेंस का निर्बाध आवागमन सुनिश्चित करने के लिए खोल दिया गया है। बहरहाल, एसकेएम ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस ने अवरोधक नहीं हटाए हैं। किसान नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर कई महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं। एसकेएम ने कुछ दिन पहले घोषणा की थी कि सिंघु बॉर्डर पर राजमार्ग के एक तरफ का रास्ता चिकित्सीय ऑक्सीजन ले जा रहे वाहनों को रास्ता देने के लिए खोला जाएगा। इसने एक बयान में कहा कि किसानों ने राष्ट्र हित में दिल्ली की सीमाओं पर सड़कों का एक तरफ का रास्ता आपात सेवाओं के लिए पहले ही खोल दिया है।

इसे भी पढ़ें: गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल हुए कोरोना संक्रमित, अस्पताल में भर्ती

एसकेएम ने कहा कि सिंघु, गाजीपुर, टीकरी और शाहजहांपुर पर स्वयंसेवी कोविड-19 योद्धाओं की भूमिका लगातार निभा रहे हैं और हर सीमा पर आपात सेवाओं का प्रबंध किया गया है। इसने कहा कि दिल्ली पुलिस ने अभी तक अवरोधक नहीं हटाए हैं और दिल्ली से आने-जाने वाले वाहनों को किसानों के प्रदर्शन के कारण कोई दिक्कत नहीं हो रही है। संगठन ने कहा कि किसान कोविड-19 योद्धाओं की उनके गंतव्य तक पहुंचने में मदद कर रहे हैं। बयान में कहा गया कि एसकेएम किसान समाज कल्याण संगठनों एवं चिकित्सकों की मदद से प्रदर्शन स्थलों पर किसानों को स्वच्छता बनाए रखने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।