सरकारी निर्णयों को मापने का एकमात्र आधार राष्ट्रहित हो, राजनीति से देश का नुकसान: मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2020   14:23
  • Like
सरकारी निर्णयों को मापने का एकमात्र आधार राष्ट्रहित हो, राजनीति से देश का नुकसान: मोदी

उन्होंने कहा कि ऐसा करने वालों को कोई पश्चाताप भी नहीं है। मोदी यहां वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पीठासीन अधिकारियों के 80वें अखिल भारतीय सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। दो दिन का यह सम्मेलन बुधवार को शुरू हुआ था जिसका उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया था।

केवडिया (गुजरात)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकारी निर्णयों को मापने का एकमात्र मापदंड ‘राष्ट्रहित’ होना चाहिए और इसमें जब राजनीति हावी हो जाती है तो इसका नुकसान देश को उठाना पड़ता है। उन्होंने यहां स्थित सरदार सरोवर बांध से आज देश को मिल रहे लाभों की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि इसका निर्माण कार्य ‘राजनीति’ की वजह से बरसों तक अटका रहा जिसका देश को बहुत नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि ऐसा करने वालों को कोई पश्चाताप भी नहीं है। मोदी यहां वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पीठासीन अधिकारियों के 80वें अखिल भारतीय सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। दो दिन का यह सम्मेलन बुधवार को शुरू हुआ था जिसका उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया था।

मोदी ने अपने संबोधन में कहा, ‘‘हमारे हर निर्णय का आधार एक ही होना चाहिए। इसे एक ही तराजू पर तौला जाना चाहिए...एक ही मानदंड होना चाहिए और वह है राष्ट्रहित। जब निर्णयों में देशहित और लोकहित की बजाय राजनीति हावी होती है तो उसका नुकसान देश को उठाना पड़ता है। सरदार सरोवर बांध भी इसका बहुत बड़ा उदाहरण है।’’ पीठासीन अधिकारियों से मुखातिब प्रधानमंत्री ने कहा कि केवड़िया प्रवास के दौरान आप सभी ने सरदार सरोवर बांध की विशालता, भव्यता और उसकी शक्ति देखी होगी लेकिन इसका काम बरसों तक अटका रहा और फंसा रहा। उन्होंने कहा कि आज इस बांध का लाभ गुजरात के साथ ही मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान के लोगों को हो रहा है। इस बांध से गुजरात की 18 लाख हेक्टेयर जमीन को, राजस्थान की 2.5 लाख हेक्टेयर जमीन को सिंचाई की सुविधा सुनिश्चित हुई है। उन्होंने कहा कि गुजरात के नौ हजार से ज्यादा गांव, राजस्थान और गुजरात के अनेकों छोटे-बड़े शहरों को घरेलू पानी की आपूर्ति इसी सरदार सरोवर बांध की वजह से हो पा रही है। मोदी ने कहा, ‘‘ये सब बरसों पहले भी हो सकता था। लेकिन बरसों तक जनता इनसे वंचित रही। जिन लोगों ने ऐसा किया, उन्हें कोई पश्चाताप भी नहीं है। इतना बड़ा राष्ट्रीय नुकसान हुआ, लेकिन जो इसके जिम्मेदार थे, उनके चेहरे पर कोई शिकन नहीं है। हमें देश को इस प्रवृत्ति से बाहर निकालना है।’’ 

इसे भी पढ़ें: DGCA ने जारी किया निर्देश, 31 दिसंबर तक जारी रहेगा अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर बैन

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर मुबई में आज ही के दिन हुए आतंकवादी हमले में मारे गए लोगों और पुलिस के जवानों को श्रद्धांजलि दी और कहा कि आज का भारत नई नीति-नई रीति के साथ आतंकवाद का मुकाबला कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं आज मुंबई हमले जैसी साजिशों को नाकाम कर रहे, आतंक को एक छोटे से क्षेत्र में समेट देने वाले, भारत की रक्षा में प्रतिपल जुटे हमारे सुरक्षाबलों का भी वंदन करता हूं।’’ प्रधानमंत्री ने इस दौरान एक राष्ट्र, एक चुनाव को भारत की जरूरत बताया और पीठासीन अधिकारियों से इस पर मंथन करने का आग्रह किया। उन्होंने समय के साथ कानूनों को प्रक्रिया को आसान बनाने पर जोर दिया और कहा कि कानूनों की इतनी आसान होनी चाहिए कि सामान्य से सामान्य व्यक्ति भी उसको समझ सके। इस सम्मेलन में उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी भाग लिया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने इस सम्मेलन की अध्यक्षता की। पीठासीन अधिकारियों के अखिल भारतीय सम्मेलन का आरंभ 1921 में हुआ था और यह इसका शताब्दी वर्ष है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राज्यपाल की ओर से 12 स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हुए सम्मानित

  •  दिनेश शुक्ल
  •  जनवरी 27, 2021   23:57
  • Like
राज्यपाल की ओर से 12 स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हुए सम्मानित

इसके तहत राजभवन के अधिकारियों द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को राज्यपाल की ओर से गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ सहित शॉल, श्रीफल और मिठाई भेंट कर सम्मानित किया।

भोपाल। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कोविड-19 संक्रमण की स्थितियों को देखते हुए मध्य प्रदेश के 12 स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के निवास पर जाकर उन्हें सम्मानित करने की व्यवस्था कराई है। इसके तहत राजभवन के अधिकारियों द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को राज्यपाल की ओर से गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ सहित शॉल, श्रीफल और मिठाई भेंट कर सम्मानित किया।

इसे भी पढ़ें: पद्म पुरस्कारों ने बढ़ाया मध्य प्रदेश का गौरव- विष्णुदत्त शर्मा

भोपाल में निवासरत स्वतंत्रता सेनानियों को राज्यपाल की ओर से सम्मानित किया गया। इनमें श्री देवीशरण, श्रीमती पार्वती देवी, श्रीमती सावित्री देवी, श्रीमती चंद्रावती सिंह, श्री मुफ्ती अब्दुल रज्जाक, श्री मुख्तार खान, श्री हबीब नजर, श्री माणिकचंद चौबे, श्री नारायण प्रसाद नरोलिया, श्री मोहम्मद जमीर, श्री लक्ष्मीकांत मिश्रा और श्रीमती नारायणी देवी शामिल है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


पद्म पुरस्कारों ने बढ़ाया मध्य प्रदेश का गौरव- विष्णुदत्त शर्मा

  •  दिनेश शुक्ल
  •  जनवरी 27, 2021   23:48
  • Like
पद्म पुरस्कारों ने बढ़ाया मध्य प्रदेश का गौरव- विष्णुदत्त शर्मा

मध्य प्रदेश के लोग उनके साथ इस परंपरा को बढ़ाने में सहयोग प्रदान करेंगे। वहीं, श्रीमती भूरी बाई जी को जो सम्मान दिया है वह उनके प्रयास और कलाजगत में की गई मेहनत का सम्मान है और यह केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में ही मुमकिन है।

भोपाल। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन, कलाकार श्रीमती भूरी बाई और डॉ. कपिल तिवारी जी को जो पद्म पुरस्कार मिले हैं, उनसे मध्य प्रदेश का गौरव बढ़ा है, हम सभी इससे गौरान्वित हैं। प्रधानमंत्री जी ने जिस तरह से ये अवार्ड प्रदान किए हैं उनसे मध्य प्रदेश की कला और संस्कृति को पहचान मिली है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने पद्म पुरस्कार से सम्मनित श्रीमती भूरी बाई एवं डॉ. कपिल तिवारी से भेंट के अवसर पर कही।

 

इसे भी पढ़ें: टोपी पहनकर संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों ने नियमितीकरण की मांग को लेकर किया प्रदर्शन

विष्णुदत्त शर्मा मंगलवार को पद्श्री श्रीमती भूरी बाई एवं डॉ. कपिल तिवारी के निवास पर पहुंचे और उन्हें बधाई दी। शर्मा ने पद्म विजेताओं का मुंह मीठा कराया और उनका सम्मान भी किया। इस अवसर पर प्रदेश सह संगठन मंत्री हितानंद शर्मा, वरिष्ठ नेता उमाशंकर गुप्ता, राहुल कोठारी, जिला अध्यक्ष सुमित पचौरी भी उपस्थित थे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा डॉ. कपिल तिवारी जी को जो सम्मान दिया है, वह मध्य प्रदेश के लिए गौरव की बात है। डॉ.तिवारी जो शिक्षा और साहित्य के क्षेत्र में जो काम कर रहे हैं, वह भारत को पहचान दिलाने वाला है। आने वाले समय में पूरे मध्य प्रदेश के लोग उनके साथ इस परंपरा को बढ़ाने में सहयोग प्रदान करेंगे। वहीं, श्रीमती भूरी बाई जी को जो सम्मान दिया है वह उनके प्रयास और कलाजगत में की गई मेहनत का सम्मान है और यह केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में ही मुमकिन है।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के अनूपपुर में किसान आंदोलन के समर्थन में निकली ट्रैक्टर रैली

प्रधानमंत्री मोदी जी ने हमेशा विश्व पटल पर भारत की संस्कृति को नई पहचान देने के लिए प्रयासरत रहे हैं। शर्मा ने कहा कि जनजातीय क्षेत्र में एक छोटे से स्थान पर रहते हुए श्रीमती भूरी बाई जी ने अपनी कला से भारतीय संस्कृति को उकेरने और संरक्षित करने का जो काम किया है, वह मध्य प्रदेश के लिए गौरव की बात है। इन विभूतियों को मिले सम्मान से आज हम सभी मध्य प्रदेशवासी गौरवान्वित हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


तिरंगे का अपमान बर्दाश्त नहीं, दोषियों के खिलाफ हो सख्त कार्रवाई: प्रकाश जावडेकर

  •  अंकित सिंह
  •  जनवरी 27, 2021   21:37
  • Like
तिरंगे का अपमान बर्दाश्त नहीं, दोषियों के खिलाफ हो सख्त कार्रवाई: प्रकाश जावडेकर

जावड़ेकर ने दावा किया कि भाजपा और विशेषकर नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता और सफलता से कांग्रेस और कम्युनिस्टों को दिक्कत हो रही है। उनकी लोकप्रियता घट रही है।

गणतंत्र दिवस पर निकाले गए किसानों के ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा पर भाजपा ने कहा है कि इस हिंसा की जितनी निंदा की जाए वह कम है। इसमें शामिल लोगों को दंडित किया जाना चाहिए। देश तिरंगे के अपमान को नहीं भूलेगा। कांग्रेस लगातार किसानों के विरोध प्रदर्शन को हवा दे रही है। केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि राहुल गांधी लगातार केवल समर्थन ही नहीं कर रहे थे बल्कि उकसा भी रहे थे। सीएए के समय भी ऐसा ही किया गया था।

जावड़ेकर ने आरोप लगाया कि कांग्रेस देश में अशांति की स्थिति पैदा करना चाहती है। कांग्रेस के लिए यही राजनीति बचा है। वे चिंतित हैं कि परिवार आधारित राजनीति का क्या होगा? कांग्रेस लगातार हिंसा की हर स्थिति को भड़काने की कोशिश करती है। कांग्रेस की सरकार ने जानबूझ कर किसानों को उकसाया, कल के यूथ कांग्रेस और कांग्रेस से संबंधित संस्थाओं के ट्वीट भी प्रमाण हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस ने कल उल्लेखनीय संयम का प्रदर्शन किया। जावड़ेकर ने दावा किया दिल्ली पुलिस पर तलवारों से हमला किया गया और उन पर पत्थर फेंके गए पर उन्होंने जवाबी हमला नहीं किया।

इसे भी पढ़ें: ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा से कमजोर पड़ा किसान आंदोलन, 1 फरवरी को होने वाला संसद मार्च स्थगित

जावड़ेकर ने दावा किया कि भाजपा और विशेषकर नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता और सफलता से कांग्रेस और कम्युनिस्टों को दिक्कत हो रही है। उनकी लोकप्रियता घट रही है। उनको चिंता अपने राज परिवार की है जिसको लोग बार-बार नकार रहे हैं।  जावड़ेकर ने कहा कि सरकार ने 10 राउंड चर्चा के किए हैं, साल-डेढ साल कानून रोकने, स्थगित करने की भी तैयारी दिखाई है। चर्चा के लिए बुलाया, हर बिंदु पर चर्चा करके दिखाइए कि किसानों का कौन सा अधिकार इन कानूनों से कम हुआ है। MSP, मंडी, मालिकाना हक किसी को भी दिक्कत नहीं पहुंची है, सब जारी रहेगा ये मालूम है इनको। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept