कोरोना से बचाव और टीकाकरण पर कृषकों से संवाद कार्यक्रम का आयोजन

कोरोना से बचाव और टीकाकरण पर कृषकों से संवाद कार्यक्रम का आयोजन

पीआईबी और आरओबी, भोपाल के अपर महानिदेशक प्रशांत पाठराबे ने कहा कि कोरोना काल में कृषि क्षेत्र ने अर्थव्यवस्था को काफी हद तक संभाले रखा है। इसमें हमारे किसान भाइयों का योगदान सराहनीय है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण को बढ़ावा देने के हरसंभव प्रयास होने चाहिए।

भोपाल। कोरोना का टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। इसके बारे में जो अफवाहें लोगों के बीच फैल रही हैं, वह निराधार हैं, इन पर ध्यान नहीं दें और टीका लगवा कर खुद को और अपने परिवार को कोरोना महामारी से सुरक्षा प्रदान करें। यह बात डॉ. संतोष शुक्ला, राज्य टीकाकरण अधिकारी, मध्य प्रदेश ने पी.आई.बी., यूनिसेफ और आरओबी भोपाल द्वारा गुरुवार को आयोजित संवाद कार्यक्रम ‘कोरोना से बचाव और टीकाकरण पर कृषकों से संवाद’ को संबोधित करते हुए कही। डॉ. संतोष शुक्ला ने कहा कि कोरोना से बचाव के हमें एसएमएस (सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क का उपयोग और हाथों को साबुन से धोना या सेनिटाइज करना) और टीका लगवाने की आवश्यकता है, तभी हम कोरोना जैसी महामारी पर नियंत्रण स्थापित कर पाएंगे। शुक्ला ने कहा कि कोरोना का टीका महिला या पुरुष की जनन क्षमता को बिल्कुल भी प्रभावित नहीं करता।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के नागदा की बेटी युवा वैज्ञानिक आस्ट्रेलिया में अवॉर्ड के लिए नामित

कोरोना का टीका लगवाने के बाद संक्रमित होना यह स्पष्ट करता है कि संभवत उस व्यक्ति को टीकाकरण के पहले ही संक्रमण हो चुका था। महिलाएं मासिक धर्म के दौरान भी टीका लगवा सकती हैं। केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान के निदेशक डॉ. सी.आर. मेहता ने कहा कि किसान भाइयों को धान की रोपाई और सोयाबीन की फसल की बोवाई के समय एसएमएस का बहुत ध्यान रखना होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में कृषि में इंजीनियरिंग का प्रयोग बढ़ गया है। यही कारण है कि पिछले साल रिकॉर्ड 9 लाख ट्रैक्टर की बिक्री देश में हुई।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के 453 नये मामले, संक्रमण से हुई 36 लोगों की मौत

पीआईबी और आरओबी, भोपाल के अपर महानिदेशक प्रशांत पाठराबे ने कहा कि कोरोना काल में कृषि क्षेत्र ने अर्थव्यवस्था को काफी हद तक संभाले रखा है। इसमें हमारे किसान भाइयों का योगदान सराहनीय है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण को बढ़ावा देने के हरसंभव प्रयास होने चाहिए। अफवाहों पर नियंत्रण जरूरी है और इसके लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। डॉ. वंदना भाटिया, स्वास्थ्य विशेषज्ञ, यूनिसेफ ने एक सवाल के जवाब में कहा कि हमें कोरोना को टाइफायड समझने की भूल नहीं करनी चाहिए। उन्होंने मास्क पहनने की सही विधि, हाथ धोने का सही तरीका लोगों को बताया। डॉ. वंदना ने टीकाकरण से जुड़ी बहुत सारी आशंकाओं का भी समाधान किया।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना टीकाकरण के लिए चलाया जाएगा सघन अभियान

कृषक दूत के संपादक अमरेंद्र मिश्रा ने कहा कि मेरा सुझाव है कि टीकाकरण केंद्र पंचायत स्तरों पर स्थापित कराए जाएं और पंचायतों की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित की जांए। नेशनल कृषि मेल के संपादक वीरेंद्र विश्वकर्मा ने कहा कि गांवों में टीकाकरण को बढ़ावा देने के लिए गांव के लोगों की सहभागिता बहुत जरूरी है। हम उन्हें साथ लेकर ही इस कार्य को सही तरीके से कर सकते हैं। कार्यक्रम में पीआईबी, भोपाल के निदेशक अखिल नामदेव, यूनिसेफ के संचार विशेषज्ञ अनिल गुलाटी, पीआईबी भोपाल के मीडिया एवं संचार अधिकारी प्रेम चन्द्र गुप्ता समेत प्रदेश भर के बहुत सारे कृषकों ने हिस्सा लिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept