दिल्ली में राहत की खबर, कोरोना संकंट के बीच स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने दिया बड़ा बयान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 13, 2022   12:54
दिल्ली में राहत की खबर, कोरोना संकंट के बीच स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने दिया बड़ा बयान

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि, अस्पताल में भर्ती मरीजों की दर स्थिर है। राष्ट्रीय राजधानी में इस महीने के पहले 12 दिनों में 133 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले पांच महीनों में 54 लोगों की मौत हुई।

नयी दिल्ली। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बृहस्पतिवार को कहा कि शहर में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की दर स्थिर है लेकिन मामलों और संक्रमण दर में वृद्धि देखी गयी है। मंत्री ने कहा कि संक्रमण से होने वाली मौत के मामलों के विश्लेषण के लिए बनायी गई समिति ने पाया कि मृतकों में ज्यादातर वे लोग थे जिन्हें अन्य बीमारियां भी थीं। इस समिति की बैठक बुधवार को हुई। राष्ट्रीय राजधानी में इस महीने के पहले 12 दिनों में 133 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले पांच महीनों में 54 लोगों की मौत हुई। इनमें से नौ की दिसंबर में, सात की नवंबर में, चार की अक्टूबर में, पांच की सितंबर में और 29 लोगों की मौत अगस्त में हुई। जुलाई में संक्रमण से दिल्ली में 76 लोगों ने जान गंवायी। जैन ने कहा कि मामलों में जल्द ही गिरावट आनी शुरू हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में सीएम चेहरे के लिए जनता के पास जाएंगे केजरीवाल, लोगों की राय के लिए जारी किया नंबर

उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘पिछले चार दिनों में अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या स्थिर हो गयी है। मामले बढ़ रहे हैं लेकिन अस्पताल में भर्ती मरीजों की दर उसी अनुपात में नहीं बढ़ी है। जब 27,000 मामले आ रहे हैं तो अस्पताल में भर्ती मरीजों की दर उतनी ही है जितनी 10,000 मामले सामने आने के समय थी। अस्पताल में भर्ती मरीजों की स्थिर दर यह संकेत देती है कि कोरोना वायरस की यह लहर स्थिर हो गयी है।’’ दिल्ली में बुधवार को कोविड-19 के 27,561 मामले आए, जो महामारी के फैलने के बाद से एक दिन में आए सबसे अधिक मामले हैं और 40 लोगों की मौत हुई जबकि संक्रमण दर बढ़कर 26.22 प्रतिशत हो गयी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।