ओवैसी ने पुलिस से कहा, सरकारी आदेश में संशोधन होने तक खाने की डिलीवरी को अनुमति दें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 22, 2021   20:36
ओवैसी ने पुलिस से कहा, सरकारी आदेश में संशोधन होने तक खाने की डिलीवरी को अनुमति दें

शहर पुलिस ने शनिवार को एक अधिसूचना में कहा कि लॉकडाउन के दौरान ऑक्सीजन सिलेंडर, घरेलू गैस सिलेंडर ले जाने वाले वाहनों, ऑक्सीजन टैंकर, मेडिकल उपकरण ले जाने वाले वाहनों और पानी के टैकरों के आवाजाही की अनुमति होगी।

हैदराबाद। पाबंदियों से छूट होने के बावजूद ऐप आधारित ‘फूड डिलीवरी’ करने वाले कई लोगों को शहर पुलिस ने लॉकडाउन के आधार पर हिरासत में लिया है, यह आरोप लगाते हुए एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को उन्हें और उनके वाहनों को तुरंत छोड़ने की मांग की। टीवी पर दिखाए गए फुटेज में शहर पुलिस डिलीवरी करने वाले कई लोगों को रोक रही है और उनके वाहन जब्त कर रही है।

हैदराबाद से सांसद से ट्वीट किया, ‘‘तेलंगाना में लॉकडाउन के सरकारी आदेश में फूड डिलीवरी की अनुमति है। फिर डिलीवरी करने वालों को हिरासत में क्यों लिया जा रहा है? उन्हें और उनके वाहनों को तुरंत छोड़ा जाना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने फूड डिलीवरी पर पाबंदी लगाना तय किया है तो, लॉकडाउन से उन्हें छूट देने संबंधी सरकारी आदेश में संशोधन किया जाना चाहिए और ऐसा होने तक उन्हें नहीं रोका जाना चाहिए। टीवी पर प्रसारित फुटेज में पुलिसकर्मी डिलीवरी करने वाले एक लड़के को डंडों से पीटते नजर आ रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: आंध्र और तेलंगाना से दूसरे राज्यों में जा रहे लोग दिल्ली में वाहन से न उतरें :डीडीएमए

शहर पुलिस ने शनिवार को एक अधिसूचना में कहा कि लॉकडाउन के दौरान ऑक्सीजन सिलेंडर, घरेलू गैस सिलेंडर ले जाने वाले वाहनों, ऑक्सीजन टैंकर, मेडिकल उपकरण ले जाने वाले वाहनों और पानी के टैकरों के आवाजाही की अनुमति होगी। तेलंगाना में 30 मई तक लॉकडाउन लागू है, जिसमें प्रतिदिन सुबह छह से 10 बजे तक चार घंटों की ढील दी जाती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।