श्रीनगर में हुई गुपकर नेताओं की बैठक, पीएम मोदी की सर्वदलीय बैठक के बाद पहली मुलाकात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 5, 2021   08:13
श्रीनगर में हुई गुपकर नेताओं की बैठक, पीएम मोदी की सर्वदलीय बैठक के बाद पहली मुलाकात

पूर्ववर्ती जम्मू-कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा फिर से बहाल करने का लक्ष्य रखने वाले गुपकर गठबंधन के नेताओं की यह बैठक परिसीमन समिति की केन्द्र शासित प्रदेश के दौरे से पहले हुई है।

श्रीनगर। श्रीनगर में रविवार को पीपुल्स एलायंस फॉर गुपकर डिक्लरेशन (पीएजीडी) की बैठक हुई। गौरतलब है कि नयी दिल्ली में 24 जून को जम्मू-कश्मीर पर हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक के बाद गुपकर की यह पहली बैठक है। पूर्ववर्ती जम्मू-कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा फिर से बहाल करने का लक्ष्य रखने वाले गुपकर गठबंधन के नेताओं की यह बैठक परिसीमन समिति की केन्द्र शासित प्रदेश के दौरे से पहले हुई है। गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने पांच अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त कर दिये थे जिसके साथ ही जम्मू-कश्मीर राज्य को मिला विशेष दर्जा भी समाप्त हो गया था।

इसे भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती ने कहा, दरबार परिवर्तन पर पूर्ण विराम एक असंवेदनशील निर्णय है

साथ ही केन्द्र ने पूर्ववर्ती राज्य को दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया था। गुपकर के एक नेता ने बताया कि बैठक गठबंधन के प्रमुख एवं नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला के यहां स्थित आवास पर हुई। उन्होंने बताया कि पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, पीएजीडी के मुख्य प्रवक्ता एम. वाई. तारीगामी और नेकां नेता उमर अब्दुल्ला सहित गठबंधन दलों के सभी नेता बैठक में मौजूद थे। नेता ने बताया, ‘‘यह बैठक पहले 29 जून को होनी थी, लेकिन गठबंधन की उपाध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के कुछ पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों के कारण इसे टालना पड़ा। इसलिए यह रविवार को हुई।’’ उन्होंने बताया कि नेताओं ने मोदी की सर्वदलीय बैठक और जम्मू-कश्मीर के मौजूदा हालात पर चर्चा की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।