सदन में महंगाई को लेकर विपक्ष का हंगामा, प्रह्लाद जोशी बोले- वित्त मंत्री की तबीयत है खराब, मैंने खड़गे से की फोन पर बात

Pralhad Joshi
ANI Image
केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि मैंने मल्लिकार्जुन खड़गे जी से फोन पर बात की है और उनको स्पष्ट किया है कि वित्त मंत्री की तबियत खराब है और उनके ठीक होने के बाद सदन में मंहगाई पर चर्चा की जाएगी। हमने उनसे सदन को सुचारू रूप से चलने देने के लिए भी उनसे सहयोग मांगा है।

नयी दिल्ली। महंगाई एवं कुछ आवश्यक वस्तुओं पर माल और सेवा कर (जीएसटी) लगाए जाने के मुद्दों पर तत्काल चर्चा कराने की मांग को लेकर सोमवार को विपक्षी सदस्यों ने संसद के दोनों सदनों में जोरदार हंगामा किया। इसी संबंध में केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी का बयान सामने आया है। जिसमें उन्होंने बताया कि हमने नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से फोन पर बात की है।

इसे भी पढ़ें: सदन में चर्चा के लिए तैयार नहीं सरकार, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने उठाए सवाल 

वित्त मंत्री की तबीयत है खराब

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि मैंने मल्लिकार्जुन खड़गे जी से फोन पर बात की है और उनको स्पष्ट किया है कि वित्त मंत्री की तबीयत खराब है और उनके ठीक होने के बाद सदन में मंहगाई पर चर्चा की जाएगी। हमने उनसे सदन को सुचारू रूप से चलने देने के लिए भी उनसे सहयोग मांगा है।

उन्होंने कहा कि यह मामला वित्त मंत्रालय से जुड़ा है क्योंकि इसमें मंहगाई, जीएसटी आदि चीज़ें हैं और वही (वित्त मंत्री) इसका सही जवाब दे सकती हैं। मेरी वित्त मंत्री से बात हुई है और वे चर्चा के लिए सहमत हैं। वे स्वस्थ होकर इस पर चर्चा करेंगी। विपक्ष खासकर कांग्रेस इस पर चर्चा नहीं चाहती है।

इसे भी पढ़ें: संसद के दोनों सदनों में आज छठे दिन भी विपक्ष का हंगामा जारी, सरकार ने कहा- हम चर्चा के लिए तैयार 

प्रह्लाद जोशी ने कहा कि मल्लिकार्जुन खड़गे ने आरोप लगाया है कि राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान प्रोटोकॉल का उल्लंघन हुआ है। शपथ ग्रहण समारोह गृह मंत्रालय आयोजित करता है और उसका एक वरीयता क्रम है जिसमें विपक्ष के नेता की सीट तीसरी पंक्ती में आती है। उन्होंने कहा कि मल्लिकार्जुन खड़गे की वरिष्ठता और उनके पद का सम्मान करते हुए हमने उनको पहली पंक्ति में स्थान दिया था। शनिवार के विदाई समारोह में भी उनको प्रधानमंत्री की बगल वाली सीट दी गई थी लेकिन वह उस दिन नहीं आए थे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़