उत्तर प्रदेश में आंशिक कोरोना कर्फ्यू को 31 मई तक विस्तार दिया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 22, 2021   21:21
उत्तर प्रदेश में आंशिक कोरोना कर्फ्यू को 31 मई तक विस्तार दिया गया

उन्होंने कहा, प्रदेशव्यापी आंशिक कोरोना कर्फ्यू के सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं और संक्रमण की चेन तोड़ने में सहायता मिल रही है, प्रदेशवासियों की ओर से भी भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में लागू आंशिक कोरोना कर्फ्यू को सोमवार, 31 मई की सुबह सात बजे तक के लिए बढ़ा दिया है। उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने एक बयान में शनिवार को यह जानकारी दी। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने बयान में कहा, उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेशवासियों के जीवन और जीविका को सुरक्षित रखने के लिए संकल्पित है और इसी भावना के साथ हमने कोविड की इस दूसरी लहर में आंशिक कोरोना कर्फ्यू की नीति अपनाई है। उन्होंने कहा, प्रदेशव्यापी आंशिक कोरोना कर्फ्यू के सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं और संक्रमण की चेन तोड़ने में सहायता मिल रही है, प्रदेशवासियों की ओर से भी भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है।

सक्रिय मामले लगातार कम हो रहे हैं, ऐसे में 31 मई की सुबह सात बजे तक आंशिक कोरोना कर्फ्यू को विस्तार दिए जाने का निर्णय लिया जा रहा है। प्रवक्ता ने कहा कि टीकाकरण, औद्योगिक गतिविधियां, मेडिकल संबंधी कार्य आदि आवश्यक अनिवार्य सेवाएं यथावत जारी रहेंगी। उल्लेखनीय है कि इसके पहले 15 मई को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में वर्चुअल माध्यम से संपन्न हुई मंत्रिमंडल की बैठक में प्रदेश में लागू आंशिक कोरोना कर्फ्यू (लॉकडाउन) को सोमवार, 24 मई की सुबह सात बजे तक बढ़ाने समेत कई महत्वपूर्ण फैसले किये गये थे। उत्तर प्रदेश में पांच मई से आंशिक कोरोना कर्फ्यू लगातार बढ़ाया जा रहा है। इसके पहले शुरू में शनिवार और रविवार और बाद में शुक्रवार की रात आठ बजे से मंगलवार सुबह सात बजे तक के लिए सरकार ने आंशिक कोरोना कर्फ्यू घोषित किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।