मदरसों के लोगों ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ी थी लड़ाई, ओवैसी बोले- क्या मोदी सरकार में मदरसा मॉडर्नाइजेशन स्कीम नहीं ?

Asaduddin Owaisi
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि इनको सिर्फ मुसलमानों से और इस्लाम से नफरत है, ये खुलकर उनकी जुबान पर आ गया...मोदी सरकार में क्या मदरसा मॉडर्नाइजेशन स्कीम नहीं है ? उन्होंने कहा कि असम में बाढ़ से 18 लोगों की जान चली गई लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री मदरसों को लेकर चिंतित हैं।

नयी दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख और हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा की जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि इनको सिर्फ मुसलमानों से और इस्लाम से नफरत है। दरअसल, मुख्यमंत्री सरमा ने कहा था कि मदरसा शब्द का अस्तित्व समाप्त हो जाना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: 'अंग्रेजों ने हिंदुओं को मुसलमानों के खिलाफ खड़ा किया', महबूबा बोलीं- आज भाजपा भी यही कर रही 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि इनको सिर्फ मुसलमानों से और इस्लाम से नफरत है, ये खुलकर उनकी जुबान पर आ गया...मोदी सरकार में क्या मदरसा मॉडर्नाइजेशन स्कीम नहीं है ?

इसी के साथ उन्होंने कहा कि असम में बाढ़ से 18 लोगों की जान चली गई लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री मदरसों को लेकर चिंतित हैं। मदरसों के लोगों ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उन्होंने कहा कि मदरसे विज्ञान, गणित और अन्य विषय पढ़ाते हैं। उन्हें (भाजपा) सिर्फ इस्लाम और मुसलमानों से नफरत है। 

इसे भी पढ़ें: नरोत्तम मिश्रा ने ओवैसी को बताया मुस्लिमों का भस्मासुर, कहा- नारी के अपमान को अपना सम्मान समझते हैं 

नहीं होना चाहिए मदरसा शब्द

मुख्यमंत्री सरमा ने कहा था कि मदरसा शब्द ही नहीं होना चाहिए। जब ​​तक यह मदरसा दिमाग में रहेगा, बच्चे कभी डॉक्टर या इंजीनियर नहीं बन सकते। यदि आप किसी बच्चे को मदरसे में दाखिला देते समय पूछेंगे... कोई भी बच्चा तैयार नहीं होगा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े साप्ताहिक पांचजन्य और ऑर्गेनाइजर के एक मीडिया सम्मेलन में मुख्यमंत्री सरमा ने यह बयान दिया था।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़