यूक्रेन संकट के बीच PM मोदी ने की उच्च स्तरीय बैठक, भारतीयों को निकालने के लिए सरकार भेजेगी 4 मंत्री

यूक्रेन संकट के बीच PM मोदी ने की उच्च स्तरीय बैठक, भारतीयों को निकालने के लिए सरकार भेजेगी 4 मंत्री
प्रतिरूप फोटो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूक्रेन संकट पर उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरेन रिजिजू और जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह निकासी मिशन के समन्वय और छात्रों की मदद करने के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों की यात्रा करेंगे।

नयी दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच हमला जारी है। इसी बीच भारत सरकार ने यूक्रेन से भारतीयों को निकालने वाला मिशन तेज कर रही है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उच्च स्तरीय बैठक की। इस बैठक में तय हुआ है कि सरकार अपने 4 मंत्रियों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजेगी, जहां से भारतीयों को निकाला जा रहा है। इसी के तहत एयर इंडिया की पांच फ्लाइटों ने भारतीयों की वतन वापसी कराई है। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन से भारतीयों की वापसी के लिए विदेश मंत्रालय ने शुरू किया विशेष ट्विटर हैंडल, हेल्पलाइन नंबर भी किए जारी 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूक्रेन संकट पर उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरेन रिजिजू और जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह निकासी मिशन के समन्वय और छात्रों की मदद करने के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों की यात्रा करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन पर हमले के विरोध में रूस में लोगों ने किया प्रदर्शन 

अब तक 1396 भारतीयों की वतन वापसी

यूक्रेन में फंसे 249 छात्रों और अन्य भारतीय नागरिकों को लेकर एयर इंडिया की 5वीं फ्लाइट दिल्ली पहुंची है। रोमानिया के बुखारेस्ट से आई एयर इंडिया की फ्लाइट नंबर AI 1942 ने सोमवार तड़के 6 बजकर 30 मिनट पर दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल (आईजीआई) एयरपोर्ट पर उतरा। आपको बता दें कि ऑपरेशन गंगा के तहत अबतक 1396 भारतीयों की वतन वापसी हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।