PM मोदी का दावा, 2014 से अब तक रोजगार के करोड़ो अवसर पैदा हुये

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 18 2019 8:47AM
PM मोदी का दावा, 2014 से अब तक रोजगार के करोड़ो अवसर पैदा हुये
Image Source: Google

उन्होंने कहा कि ब्याज में छूट की योजना को बढ़ाकर पांच प्रतिशत करने तथा इसमें मर्चेंट निर्यातकों को भी शामिल करने से निर्यातकों को 600 करोड़ रुपये तक का फायदा होगा।

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को दावा किया कि उनकी सरकार ने पिछले साढ़े चार साल में देश में विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के करोड़ों अवसर सृजित करने में मदद की है। स्वतंत्र परामर्श दाता संगठन सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकनॉमी (सीएमआईई) ने हाल ही में अनुमान व्यक्त किया था कि देश में 2018 में 1.10 करोड़ नौकरियां समाप्त हुई। ग्रामीण क्षेत्र पर इसका सबसे बुरा असर रहा। ऐसे में मोदी का यह दावा महत्वपूर्ण हो जाता है। मोदी ने यहां अहमदाबाद खरीदारी महोत्सव का उद्घाटन करने के बाद कहा, ‘‘चाहे पर्यटन हो या विनिर्माण या सेवा क्षेत्र, पिछले साढ़े चार साल के दौरान रोजगार के करोड़ों अवसर सृजित हुए हैं।’’ 

 


इस महोत्सव का आयोजन इसी तरह के कई विदेशी आयोजनों की तर्ज पर किया जा रहा है। इसमें 15 हजार से अधिक विक्रेता भाग ले रहे हैं जो अगले 12 दिनों तक उपभोक्ताओं को भारी छूट की पेशकश कर रहे हैं। मोदी ने गुजरात सरकार तथा समारोह के आयोजकों से कहा कि वे इसे सालाना समारोह का रूप दें। उन्होंने कहा, ‘‘हम सामान्यत: बड़े कारोबारी सम्मेलनों के साथ इस तरह का आयोजन विदेशों में ही देख पाते हैं। वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन के साथ अहमदाबाद खरीदारी महोत्सव का आयोजन सराहनीय प्रयास है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘गली-नुक्कड़ में बेचने वालों से लेकर शॉपिंग मॉल तक के, हथकरघा से लेकर इलेक्ट्रानिक्स और होटल-रेस्तरां कारोबार तक सभी यहां अपने कारोबार को बढ़ावा देने आये हैं।’’ 



 
मोदी ने कहा, ‘‘मैं गुजरात सरकार, अहमदाबाद प्रशासन और शैलेष पटवारी (गुजरात वाणिज्य एवं उद्योग मंडल के पूर्व अध्यक्ष) जैसे मित्रों से अनुरोध करता हूं कि वह इसे हर साल एक ही समय आयोजित होने वाला समारोह बनाने की संभावना पर गौर करें।’’  उन्होंने कहा कि इस तरह के समारोहों से छोटे कारोबारियों को बड़ा बाजार खोजने में मदद मिलेगी। उन्होंने इस दौरान खादी का एक जैकेट भी खरीदा। मोदी ने कहा कि सरकार सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) की हरसंभव तरीके से मदद कर रही है। उन्होंने इस क्षेत्र के लिये उठाए गए विविध कदमों का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि ब्याज में छूट की योजना को बढ़ाकर पांच प्रतिशत करने तथा इसमें मर्चेंट निर्यातकों को भी शामिल करने से निर्यातकों को 600 करोड़ रुपये तक का फायदा होगा।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story