तेजपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में PM मोदी ने सुनाई टीम इंडिया के संघर्ष की दास्तां, युवाओं को दिया यह मंत्र

तेजपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में PM मोदी ने सुनाई टीम इंडिया के संघर्ष की दास्तां, युवाओं को दिया यह मंत्र

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस टूर में क्या-क्या चुनौतियां नहीं आई, हमारी बहुत बुरी हार हुई लेकिन उतनी ही तेजी से हम उभरे भी और अगले मैच में जीत भी दर्ज की। चोट लगने के बावजूद हमारे खिलाड़ी मैदान में डटे रहे।

गुवाहाटी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तेजपुर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम की जमकर सराहना की और उनके संघर्ष को सभी के समक्ष रखा। उन्होंने छात्रों को आगे बढ़ने की प्रेरणा भी दी। उन्होंने कहा कि आज 1200 से ज्यादा छात्रों के लिए जीवन भर याद रहने वाला क्षण है। आपके शिक्षक, आपके माता पिता के लिए भी आज का दिन बहुत अहम है। सबसे बड़ी बात आज से आपके कॅरियर के साथ तेजपुर विश्वविद्यालय का नाम हमेशा के लिए जुड़ गया है।  

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने PM मोदी के असम दौरे से पहले दागे 24 सवाल, कही यह अहम बात 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस टूर में क्या-क्या चुनौतियां नहीं आई, हमारी बहुत बुरी हार हुई लेकिन उतनी ही तेजी से हम उभरे भी और अगले मैच में जीत भी दर्ज की। चोट लगने के बावजूद हमारे खिलाड़ी मैदान में डटे रहे। चुनौतियां का हमारे युवा खिलाड़ियों ने सामना किया और उसका समाधान ढूंढा। कुछ खिलाड़ियों में अनुभव जरूर कम था लेकिन हौसला उतना ही बुलंद दिखा। उन्हें जैसे ही मौका मिला उन्होंने इतिहास बना दिया। 

इसे भी पढ़ें: पत्रकारों और मीडियाकर्मियों को नि:शुल्क कोरोना टीका लगाने कमलनाथ ने की मांग 

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि भारतीय टीम ने अनुभवी टीम को पराजित कर दिया। युवा साथियों क्रिकेट के मैदान पर हमारे खिलाड़ियों की यह प्रतिभा सिर्फ खेल के लिहाज से ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि एक लाइव लेशन भी है। पहला लेशन यह कि हमें विश्वास होना चाहिए। दूसरा यह कि हमें सकारात्मक विचारों के साथ आगे बढ़ना चाहिए क्योंकि उसका परिणाम भी सकारात्मक आता है। तीसरा यह कि अगर आपके पास एक तरफ सेफ निकल जाने का विकल्प हो और दूसरी तरफ मुश्किल जीत का विकल्प हो तो आपको जीत का विकल्प जरूर चुनना चाहिए और अगर जीतने की कोशिश में कभी-कभार असफलता भी हाथ लगे तो उसमें कोई नुकसान नहीं है। रिस्क लेने से कोई नुकसान नहीं है। हमें अपने भीतर के असफलता के डर को बाहर निकालना होगा।

यहां सुने पूरा संबोधन: 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।