मन की बात में पीएम मोदी ने कहा- योग के बाद दुनिया ने अब आयुर्वेद को भी अपनाया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 26, 2020   14:37
मन की बात में पीएम मोदी ने कहा- योग के बाद दुनिया ने अब आयुर्वेद को भी अपनाया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि सेहत को योग से होने वाले लाभ को देखकर ही दुनिया ने इसे अपनाया और अब उसी प्रकार कोरोना महामारी के वैश्विक संकट के दौरान भारत के सदियों पुराने आयुर्वेद के सिद्धांतों को भी अपनाया गया है।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि सेहत को योग से होने वाले लाभ को देखकर ही दुनिया ने इसे अपनाया और अब उसी प्रकार कोरोना महामारी के वैश्विक संकट के दौरान भारत के सदियों पुराने आयुर्वेद के सिद्धांतों को भी अपनाया गया है। मोदी ने रविवार को अपने कार्यक्रम ‘मन की बात’ में देश के युवाओं से आह्वान किया कि वे आयुर्वेद के विभिन्न पहलुओं की वैज्ञानिक तरीके से दुनिया के समक्ष व्याख्या प्रस्तुत करें, जिससे चिकित्सा क्षेत्र में भारत के प्राचीन आयुर्वेद के ज्ञान का वैश्विक लाभ सुनिश्चित किया जा सके।

उन्होंने युवाओं से कोरोना संकट को आयुर्वेद का विश्वव्यापी प्रसार करने के एक अवसर के रूप में देखने की अपील की। प्रधानमंत्री ने इस दौरान कोरोना की वजह से सार्वजनिक स्थलों पर थूकने जैसी लोगों की तमाम आदतों में भी बदलाव लाने का आह्वान किया। मोदी ने कहा, ‘‘दुनिया ने योग की तरह ही आयुर्वेद को भी अब सम्मान के भाव से देखना शुरु कर दिया है।’’ उन्होंने अपने ही देश में अपने प्राचीन पारंपरिक ज्ञान की परंपराओं को नकारने की प्रवृत्ति को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने कहा, ‘‘यह दुर्भाग्य रहा है कि हम अपनी ही शक्तियों को नकार देते है, लेकिन जब विदेशी लोग, ज्ञान की इस शक्ति को वैज्ञानिक प्रमाण के साथ बताते है तो हम उसे स्वीकर कर लेते हैं।’’

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 के खिलाफ जंग में आक्रामक जांच की भूमिका अहम : मनमोहन सिंह

मोदी ने सैकड़ों साल की गुलामी को इसकी संभावित वजह बताते हुये युवाओं से आह्वान किया, ‘‘भारत की युवा पीढ़ी को इस चुनौती को स्वीकार करना होगा कि योग की तरह, आयुर्वेद को भी विश्व स्वीकार करे। इसके लिये युवाओं को वैज्ञानिक में दुनिया को अपने आयुर्वेद को समझाना होगा।’’ प्रधानमंत्री ने कोरोना के संक्रमण से बचने के लिये आयुर्वेद में सुझाये गये गरम पानी पीने सहित अन्य उपायों का पालन करने की देशवासियों से भी अपील की। उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है कि आयुष मंत्रालय ने रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये जो प्रोटोकॉल दिया था उसका आप पालन कर रहे होंगे। इससे आपका लाभ होगा।’’ कोरोना संकट में लोगों की कुछ आदतों में भी बदलाव आने का जिक्र करते हुये मोदी ने कहा, ‘‘कोविड-19 ने हमारी कुछ आदतें भी बदली हैं। इस संकट ने हमारी समझ और चेतना को जागृत किया है। इसमें मास्क पहनना या चेहरे को ढक कर रखना शामिल है।’’ उन्होंने कहा कि मास्क अब सामान्य जनजीवन का हिस्सा बन रहा है। इसका इस्तेमाल करने की आदत हमें पहले नहीं थी। मोदी ने स्पष्ट किया कि इसका यह मतलब नहीं है कि जो मास्क लगाते हैं वे बीमार हैं।’’ प्रधानमंत्री ने पुरानी धारणा का जिक्र करते हुये कहा कि एक जमाना था जब कोई फल खरीदता था तो लोग पूछते थे कि परिवार में कोई बीमार तो नहीं है। क्योंकि पहले बीमार होने पर ही फल खाये जाते थे। उन्होंने कहा कि अब यह धारणा बदली है। इसी प्रकार मास्क को लेकर भी सोच बदली है। उन्होंने कहा, ‘‘मास्क सभ्य समाज का प्रतीत बनेगा। वैसे मेरा तो सुझाव गमछा प्रयोग करने का भी है।’’

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउनः माता पिता से बिछड़ा चार साल का एक बच्चा एक महीने बाद अपने परिवार से मिला

प्रधानमंत्री ने कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुये सार्वजनिक स्थलों पर थूकने की लोगों की आदत में आये बदलाव को सकारात्मक परिवर्तन बताया। उन्होंने कहा, सभी लोग सार्वजनिक स्थानों पर थूकने के नुकसान को भी अब समझ रहे हैं।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि थूकने की यह आदत सफाई और स्वास्थ्य को चुनौती देती थी। उन्होंने कहा, ‘‘समाज से यह समस्या समाप्त नहीं हो रही थी अब देर भले ही हो गयी हो लेकिन सभी को थूकने की आदत को रोकना चाहिये, क्योंकि यह संक्रमण को रोकने में मदद करती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।