PM मोदी बोले- जिन्हें जनता ने नकार दिया उनके पास अब भ्रम और झूठ का शस्त्र बचा है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   17:39
PM मोदी बोले- जिन्हें जनता ने नकार दिया उनके पास अब भ्रम और झूठ का शस्त्र बचा है

जेपी नड्डा के नया भाजपा अध्यक्ष की जिम्मेदारी ग्रहण करने से जुड़े कार्यक्रम में मोदी ने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि नड्डा के नेतृत्व में पार्टी अपने विचारों को लेकर आगे बढ़ने वाली है, लेकिन भाजपा जैसे दल को विपक्षी दल से ज्यादा चुनौतियों का सामना आने वाले समय में करना होगा।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग्रेस समेत विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन्हें जनता ने खारिज कर दिया है और अब वे भ्रम एवं झूठ के शस्त्र का इस्तेमाल कर रहे हैं। उनकी टिप्पणी को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों से भी जोड़कर देखा जा रहा है। जेपी नड्डा के नया भाजपा अध्यक्ष की जिम्मेदारी ग्रहण करने से जुड़े कार्यक्रम में मोदी ने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि नड्डा के नेतृत्व में पार्टी अपने विचारों को लेकर आगे बढ़ने वाली है, लेकिन भाजपा जैसे दल को विपक्षी दल से ज्यादा चुनौतियों का सामना आने वाले समय में करना होगा।

’’उन्होंने कहा, ‘‘चुनावी राजनीति में जनता ने जिन्हें नकार दिया है, जिनकी बात को देश स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है, उनके पास बहुत कम शस्त्र बचे हैं और उनमें से एक है भ्रम फैलाओ और झूठ फैलाओ। बार बार हर चीज को एक रूप दे दो, रंग दे दो और अपने इकोसिस्टम में उनको हवा दे दे।’’मोदी ने कहा, ‘‘ऐसे समय में भाजपा का कार्यकर्ता मानकर चलें कि माध्यमों से मदद मिलने की आशा कम है और हमारी ताकत तो लोगों से संवाद और संपर्क है। हमारे लिए और सक्रियता की आवश्यकता है और जन-जन तक पहुंचने की जरूरत है। आज भी ये लोग हमारे प्रति जनता के विश्वास को डिगा नहीं पाए हैं।’’उन्होंने सीएए के समर्थन से जुड़े भाजपा के कार्यक्रमों का हवाला देते हुए कहा, ‘‘ इन दिनों 10 -15 कार्यक्रम होते हैं और हमारे नेता जाते हैं और 50 हजार -एक लाख लोग आते हैं। यह पता नहीं चलता है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।