Subhas Chandra Bose statue: नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का PM मोदी ने किया अनावरण

Subhas Chandra Bose statue: नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का PM मोदी ने किया अनावरण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर इंडिया गेट पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया। नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा को 4K प्रोजेक्टर द्वारा संचालित किया जाएगा जो 30,000 लुमेन की चमक स्तर प्रदान करने में सक्षम होगा।

आज (रविवार) को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शाम के करीब 6 बजे इंडिया गेट पर महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया। बता दें कि इससे पहले ही सोशल मीडिया के जरिये पीएम मोदी ऐलान कर चुके थे कि इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की ग्रेनाइट से बनी प्रतिमा लगाई जाएगी। लेकिन जब तक वो प्रतिमा तैयार नहीं हो जाती तब तक उस जगह पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा मौजूद रहेगी। सरकार ने आजाद हिंद फौज के संस्थापक बोस की जयंती को ‘पराक्रम दिवस' के रूप में मनाने की घोषणा की है।

जॉर्ज पंचम की प्रतिमा की जगह नेताजी की मूर्ति

भारत माता के वीर सपूत सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा उस जगह लगाई जाएगी जहां पहले ब्रिटेन के राजा जॉर्ज पंचम की मूर्ति लगी थी। जॉर्ज पंचम की प्रतिमा को साल 1968 में हटा दिया गया था। इस प्रतिमा को ओडिशा के प्रसिद्ध मूर्तिकार और राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय के महानिदेशक अद्वैत गडनायक बना रहे हैं। नेताजी की प्रतिमा को तराशने के लिए तेलंगाना से काला जेड ग्रेनाइट पत्थर लाया जाएगा। केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने पहले ही प्रतिमा का डिजाइन तैयार कर लिया है। 

इसे भी पढ़ें: इतिहास से वर्तमान की सबक दे गए मोहन भागवत, सुनाई गांधी-बोस की कहानी, त्रिपुरी अधिवेशन में क्या हुआ था?

क्या होती है होलोग्राम प्रतिमा?

नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा को 4K प्रोजेक्टर द्वारा संचालित किया जाएगा जो 30,000 लुमेन की चमक स्तर प्रदान करने में सक्षम होगा। ये प्रोजेक्टर महंगे हैं और आमतौर पर एक यूनिट के लिए 15 लाख रुपये से ऊपर की लागत आती है, वह भी लगभग 13×13 फीट की अधिकतम प्रक्षेपण क्षमता के साथ। होलोग्राम प्रतिमा का आकार 28 फीट ऊंचा और 6 फीट चौड़ा है। इमेज के चारों तरफ घूमा जा सकता है और इससे अलग अलग एंगल से जा सकेगा। जिस तरह एक मूर्ति लगी होती है, वैसे ही यह मूर्ति होगी, लेकिन यह वर्चुअल रूप से तैयार की गई होगी।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।