पुलिस कर्मियों भी अब कोरोना की चपेट में, 12 दिन में 227 जवान संक्रमित

पुलिस कर्मियों भी अब कोरोना की चपेट में, 12 दिन में 227 जवान संक्रमित

तीसरी लहर ने मध्य प्रदेश पुलिस को भी चपेट में ले लिया है। तेजी से बढ़ रहे संक्रमण में रोज पुलिस के जवान भी आ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में पूरे प्रदेश में 80 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं इन्हें मिलाकर अभी तक पुलिस के कुल 227 जवान संक्रमित हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। जिसके बाद अब सरकार ने प्रदेश की सभी जेलों में 31 मार्च तक बंदियों से होने वाली मुलाकातों पर रोक लगा दी गई है।

इसकी जानकारी देते हुए गृह मंत्री नरोत्‍तम मिश्रा ने कहा कि कैदियों के परिजन फिलहाल ई-मुलाकात और इनकमिंग कॉल के जरिए ही चर्चा कर सकेंगे। गृह मंत्री ने यह भी बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में 80 पुलिसकर्मी संक्रमित हुए हैं। अभी तक कुल 227 पुलिस जवान संक्रमित हुए हैं।

इसे भी पढ़ें:ऑनलाइन गेमिंग को लेकर एमपी में बनेगा कानून, ड्राफ्ट हुआ तैयार 

दरअसल कोरोना की तीसरी लहर ने मध्य प्रदेश पुलिस को भी चपेट में ले लिया है। तेजी से बढ़ रहे संक्रमण में रोज पुलिस के जवान भी आ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में पूरे प्रदेश में 80 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं  इन्हें मिलाकर अभी तक पुलिस के कुल 227 जवान संक्रमित हैं। इसका सीधा असर पुलिस की ड्यूटी पर पड़ रहा है।

आपको बता दें कि रोजाना पुलिस कर्मचारी और अधिकारी कोरोना पॉजिटिव हो रहे हैं। जानकारी के अनुसार बीते 12 दिन में भोपाल के 48 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 9 पुलिसकर्मी जिला भोपाल पुलिस में पदस्थ हैं। बाकी 39 पुलिसकर्मी अलग-अलग यूनिट के हैं।

इसे भी पढ़ें:MP में अपडेट होगी मतदाता सूची, राज्य निर्वाचन आयोग ने जारी किया आदेश 

वहीं पिछले 24 घंटे में 80 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं. इन्हें मिलाकर अभी तक पुलिस के कुल 227 जवान संक्रमित हैं। मध्य प्रदेश में कोरोना के 4037 नए प्रकरण आए हैं। 783 लोग ठीक होकर अपने अपने घर लौट गए हैं। इन्हें मिलाकर कोरोना के अब 17657 एक्टिव केस हो गए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।