Covid-19 के संभावित चार टीके 3 से 5 महीने में क्लीनिकल परीक्षण के दौर में पहुंच सकते हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2020   11:38
Covid-19 के संभावित चार टीके 3 से 5 महीने में क्लीनिकल परीक्षण के दौर में पहुंच सकते हैं

हर्षवर्धन ने कहा, ‘‘ भारत सक्रियता से इस प्रयास में योगदान कर रहा है। हमारे यहां 14 संभावित टीके बन रहे हैं और विभिन्न चरणों में काम हो रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उद्योग और अकादमिक जगत इसमें योगदान कर रहा है और हमारा विज्ञान मंत्रालय भी इन सभी प्रयासों में जैव प्रौद्योगिकी विभाग की मदद कर रहा है।’’

नयी दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रविवार को कहा कि भारत में कोविड-19 के इलाज के लिए बनाए जा रहे 14 संभावित टीकों में से चार अगले तीन से पांच महीने में क्लीनिकल परीक्षण के दौर में पहुंच सकते हैं। भाजपा प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव से ऑनलाइन संवाद में हर्षवर्धन ने कहा कि पूरी दुनिया कोरोना वायरस की महामारी को रोकने के लिए टीका विकसित करने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘ टीका विकसित करने के लिए दुनिया में 100 से अधिक उम्मीदवार हैं और विभिन्न चरणों पर काम कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के कारण राष्ट्रपति ट्रंप ने ब्राजील पर लगाया यात्रा प्रतिबंध

विश्व स्वास्थ्य संगठन इन प्रयासों में समन्वय कर रहा है।’’ हर्षवर्धन ने कहा, ‘‘ भारत सक्रियता से इस प्रयास में योगदान कर रहा है। हमारे यहां 14 संभावित टीके बन रहे हैं और विभिन्न चरणों में काम हो रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उद्योग और अकादमिक जगत इसमें योगदान कर रहा है और हमारा विज्ञान मंत्रालय भी इन सभी प्रयासों में जैव प्रौद्योगिकी विभाग की मदद कर रहा है।’’ हर्षवर्धन ने कहा कि जो भी इस पर काम कर रहा है उसे वित्तीय मदद और नियामकीय अनुमति दी जाएगी। मंत्री ने कहा, ‘‘संभावित 14 टीकों में चार अगले तीन से पांच महीने में क्लीनिकल परीक्षण के दौर में पहुंच जाएंगे। अभी वे प्री क्लीनिकल परीक्षण के दौर में है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।