मेरठ में मामूली विवाद पर प्रसपा नेता की चाकू से गोदकर हत्या, एलानिया कत्ल से क्षेत्र में हड़कंप

मेरठ में मामूली विवाद पर प्रसपा नेता की चाकू से गोदकर हत्या, एलानिया कत्ल से क्षेत्र में हड़कंप

मेरठ में हत्या की सनसनीखेज वारदात सामने आई है। शुक्रवार को देर रात लगभग 8: 30 बजे प्रसपा (प्रगतिशील समाज पार्टी) के कार्यकर्ता की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि रिश्ते के चचेरे भाई ने रंजिश में वारदात को अंजाम दिया।

मेरठ में हत्या की सनसनीखेज वारदात सामने आई है। शुक्रवार को देर रात लगभग 8: 30 बजे प्रगतिशील समाज पार्टी के कार्यकर्ता की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि रिश्ते के चचेरे भाई ने रंजिश में वारदात को अंजाम दिया। वो परिवार के सदस्य और एक अन्य को लेकर घर में घुस गया था। खून बहने पर परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां पर इलाज के दौरान डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

थाना कंकरखेड़ा क्षेत्र के गांव शोभापुर निवासी 24 वर्षीय सुधीर उर्फ सिद्धू पुत्र प्यारेलाल प्लंबर का काम करता था। सुधीर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) की यूथ बिग्रेड का जिला सचिव था। सुधीर के साथ पड़ोस में रहने वाला उनका चचेरा भाई कमलदीप पुत्र महेंद्र भी प्लंबर का काम करता है। एक सप्ताह पूर्व कमलदीप का छोटा पुत्र सुधीर के मकान की दीवार के पास खेल रहा था। पुलिस के मुताबिक बच्चे ने कंकरीट को दीवार पर रगड़ दिया। इस पर सुधीर ने बच्चे को थप्पड़ मार दिया था। कमलदीप ने इसका विरोध करते हुए सुधीर को जान से मारने की धमकी दी थी। शुक्रवार को कमलदीप की सास और ससुर भी आए हुए थे। गली में सास और ससुर खड़े होकर सुधीर से थप्पड़ मारने को लेकर बातचीत कर रहे थे और आगे से ऐसा न करने की नसीहत दे रहे थे। इसी दौरान कमलदीप चाकू लेकर वहां पहुंचा और सुधीर पर ताबड़तोड़ वार कर दिए। लहुलूहान सुधीर वहीं गिर गया। कमलदीप मौके से फरार हो गया। सुधीर के स्वजन वहां पहुंचे और उसे पहले कैलाशी अस्पताल फिर मेडिकल कालेज ले गए जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। मृतक के स्वजन ने कमलदीप, उसकी पत्नी, सास, ससुर, चाचा जितेंद्र व एक अन्य के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।

इंस्पेक्टर कंकरखेड़ा सुबोध कुमार सक्सेना के अनुसार आरोपित पत्नी, सास व ससुर को हिरासत में लिया गया है। मुख्य आरोपित कुलदीप समेत अन्य की गिरफ्तारी को पुलिस टीम लगा दी गई हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।