मोदी दूसरों के दृष्टिकोण को समझने के इच्छुक नहीं : सिब्बल

Kapil Sibal
प्रतिरूप फोटो
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को कहा, मोदी युग के साथ समस्या यह है कि वह दूसरों के दृष्टिकोण को समझने के इच्छुक नहीं हैं और इसलिए हम मुश्किल में हैं। कांग्रेस नेता ने दावा किया कि प्रधानमंत्री के नारे न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन के विपरीत, वास्तव में हमारे पास अधिकतम सरकार, शून्य शासन है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अन्य लोगों के दृष्टिकोण को समझने के इच्छुक नहीं हैं और देश जिन समस्याओं का सामना कर रहा है, उसके मूल में यही बात है।

मोदी के युग में भारत विषय पर यहां गिरीश पटेल स्मृति व्याख्यान देते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सेंट्रल विस्टा जैसी परियोजना की लोकतंत्र के लिए तब तक कोई प्रासंगिकता नहीं है जब तक कि कोई ‘राष्ट्र की आकांक्षाओं और आत्मा को समझने में सक्षम न हो जो बदलाव के लिए पुकार कर रही है।

इसे भी पढ़ें: पुलिस भर्ती परीक्षा: सुरजेवाला ने उच्च न्यायालय के न्यायाधीश से जांच की मांग उठायी

उन्होंने कहा, लोकतंत्र, इस इमारत के अंदर लोगों के बीच होने वाला परिसंवाद, जो देश की विविध आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करता हैं। आप जैसा चाहे वैसे ढांचे का निर्माण कर सकते हैं, लेकिन जब तक आप बदलाव के लिए पुकार रही एक राष्ट्र की आकांक्षाओं और आत्मा को समझने में सक्षम नहीं होते, आप कभी लोकतंत्र नहीं चला पाएंगे।

सिब्बल ने कहा, मोदी युग के साथ समस्या यह है कि वह दूसरों के दृष्टिकोण को समझने के इच्छुक नहीं हैं और इसलिए हम मुश्किल में हैं। कांग्रेस नेता ने दावा किया कि प्रधानमंत्री के नारे न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन के विपरीत, वास्तव में हमारे पास अधिकतम सरकार, शून्य शासन है।

इसे भी पढ़ें: असम : ‘ भड़काऊ’ टिप्पणी करने के आरोप में कांग्रेस विधायक हिरासत में

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़