ऑनलाइन मिलेगी निजी स्कूलों को मान्यता, 10 फरवरी तक कर सकेंगे आवेदन

ऑनलाइन मिलेगी निजी स्कूलों को मान्यता, 10 फरवरी तक कर सकेंगे आवेदन

अब स्कूलों को ऑनलाइन ऐप से मान्यता मिलेगी। इससे निजी स्कूल संचालकों को काफी राहत मिलेगी। प्राइवेट स्कूल संचालक स्कूल की मान्यता और नवीनीकरण के लिए स्कूलों में बैठे-बैठे ऑनलाइन आवेदन कर मान्यता ले सकेंगे।

भोपाल। मध्य प्रदेश में प्राइवेट स्कूल संचालकों को मान्यता के लिए स्कूल शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला लिया है। प्रदेश मेंं निजी स्कूलों को ऑनलाइन ऐप से मान्यता मिलेगी। स्कूल चलाने के लिए मान्यता और नवीनीकरण के लिए निजी स्कूल संचालक 10 फरवरी तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

जानकारी मिली है कि मोबाइल ऐप से आवेदन करते समय प्राइवेट स्कूलों को RTI के मापदंडों के अनुसार GEO टैग फोटो अटैच करना अनिवार्य होगा। और इसके साथ ही शासन के सभी मानकों का पालन करने पर ही प्राइवेट स्कूलों को 3 साल के लिए मान्यता दी जाएगी।

इसे भी पढ़ें:श्वेता तिवारी की बढ़ी मुश्किलें, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पुलिस कमिश्वर से मांगी रिपोर्ट 

दरअसल अब स्कूलों को ऑनलाइन ऐप से मान्यता मिलेगी। इससे निजी स्कूल संचालकों को काफी राहत मिलेगी। प्राइवेट स्कूल संचालक स्कूल की मान्यता और  नवीनीकरण के लिए स्कूलों में बैठे-बैठे ऑनलाइन आवेदन कर मान्यता ले सकेंगे।

आपको बता दें कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार अभी थमने का नाम नहीं ले रही है। मौजूदा स्थिति को देखते हुए 31 जनवरी के बाद भी स्कूल नहीं खुलेंगे। जिसके संकेत स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने दिए है। बैतूल में उन्होंने कहा कि कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। अगर यही हाल रहा तो मुझे नहीं लगता 31 जनवरी के बाद भी स्कूल खुलेंगे।

इसे भी पढ़ें:अपने बयान को लेकर ट्रोल हुई श्वेता तिवारी, जानिए पूरा मामला 

स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बच्चों की पढ़ाई प्रभावित होने पर चिंता भी जताई। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई सही नहीं हो सकती। ऑनलाइन पढ़ाई वैकल्पिक और कामचलाऊ व्यवस्था है। और इसलिए हमने छात्रों को शिक्षकों के संपर्क में रहने के लिए कहा है जिससे पढ़ाई निरंतर जारी रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।