यूपी में 2019 नहीं बल्कि 2022 की तैयारी कर रही हैं प्रियंका गांधी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 28, 2019   20:53
यूपी में 2019 नहीं बल्कि 2022 की तैयारी कर रही हैं प्रियंका गांधी

चुनाव आचार संहिता का पालन कराने को लेकर स्टेटिक मजिस्ट्रेट महेन्द्र सिंह व प्रभारी कोतवाली गजेन्द्र सिंह के नेतृव में मौके पर पहुंची टीम ने नेताओं से अनुमति पत्र मांगा लेकिन कोई भी नेता दिखाने में असमर्थ रहा।

अमेठी (उप्र)। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के अमेठी के मुसाफिरखाना में मैराथन बैठक के बाद एक कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं से कहा कि वह प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी अभी से शुरू कर दें। अमेठी में पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने आयी कांग्रेस महासचिव ने यहां एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि लोकसभा चुनाव के साथ साथ कार्यकर्ता प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए तैयारी अभी से शुरू करें। इससे पहले मुसाफिरखाना में कांग्रेस के बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में भी प्रियंका आम चुनाव के साथ साथ विधानसभा चुनावों के बारे में चर्चा करती दिखी थी। 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी मुसाफिरखाना में मैराथन बैठक और कार्यक्रम के बाद रात करीब सवा बारह बजे पार्टी के स्थानीय नेता फतेह बहादुर के घर पहुची जहां उन्हें लड्डुओं से तौले जाने का कार्यक्रम रखा गया था। हालांकि, प्रियंका ने इस दौरान कार्यक्रम के आयोजक को ही तराजू पर बिठा दिया। गौरतलब है कि कांग्रेस महासिचव तीन दिन के प्रदेश दौरे पर हैं और इसके बाद वह शुक्रवार को फैजाबाद जायेंगी। इसबीच जिलाधिकारी राम महेश मिश्रा ने बताया कि फतेह बहादुर और अन्य के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है और इसकी जांच के आदेश दे दिये गए है। एक अन्य मामले में जिले के जायस थाना क्षेत्र में बीती रात कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के दौरे के बाद रात लगभग 11 बजे रायबरेली प्रास्थान कर रही थी। कसबे के दरगाह मोड हनुमान मंदिर के निकट पूर्व राज्यमंत्री नदीम अशरफ जायसी के नेतृतव मे काफी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता झंडा और तख्ती लेकर स्वागत के लिए एकत्र थे।

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल की रिश्वत संबंधी टिप्पणी: आयोग ने कहा, कार्रवाई करने से पहले देंगे नोटिस

चुनाव आचार संहिता का पालन कराने को लेकर स्टेटिक मजिस्ट्रेट महेन्द्र सिंह व प्रभारी कोतवाली गजेन्द्र सिंह के नेतृव में मौके पर पहुंची टीम ने नेताओं से अनुमति पत्र मांगा लेकिन कोई भी नेता दिखाने में असमर्थ रहा। चुनाव आचार संहिता के उल्लघंन को देखते हुए माजिस्ट्रेट महेन्द्र सिंह की तहरीर पर थाना जायसमें भारतीय दंड विधान के अर्न्तगत, 15 नामजद एंव पचास अज्ञात लोगो के विरुद्व मुकदमा पंजीकृत किया गया। जायस के प्रभारी निरीक्षक गजेंद्र सिंह ने आचार संहिता के उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किए जाने की पुष्टि की है। दरअसल निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार रात दस बजे से सुबह पांच बजे तक किसी प्रकार का चुनावी सभा करना आचार संहिता के उल्लंघन के तहत आता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।