लखनऊ में डबल मर्डर पर बोलीं प्रियंका, UP में कोई सुरक्षित नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 29, 2020   21:47
लखनऊ में डबल मर्डर पर बोलीं प्रियंका, UP में कोई सुरक्षित नहीं

लखनऊ में रेलवे अधिकारी के पत्नी और बेटे की हत्या को लेकर प्रदेश की कानून-व्यवस्था पर एक बार फिर सवाल खड़े हो गये हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश सरकार पर सख्त टिप्पणी करते हुये निशाना साधा है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लखनऊ में एक रेल अधिकारी की पत्नी और बेटी की हत्या के मामले को लेकर शनिवार को उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि इस ‘जंगलराज’ में कोई भी सुरक्षित नहीं है। उन्होंने फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश के सीएम साहब सदन में कुछ भी बोलें , लेकिन उनके आवास के निकट वीआईपी एरिया में दिनदहाड़े रेलवे के बड़े अधिकारी आर डी बाजपेयी की पत्नी व बेटे की हत्या हो जाना दिखाता है कि उप्र में जंगलराज का खूनी दायरा मुख्यमंत्री आवास के करीब तक आ पहुंचा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस की समिति से G-23 का पत्ता साफ, इंदिरा से सोनिया तक यूं बगावत पर किया काबू

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने आरोप लगाया, ‘‘हर रोज कई परिवारों को इस जंगलराज के चलते दुख झेलना पड़ता है। यहां कोई भी, कहीं भी सुरक्षित नहीं है।’’ गौरतलब है कि लखनऊ में रेलवे अधिकारी आरडी बाजपेयी की पत्नी और बेटे की हत्या कर दी गई। पुलिस ने कुछ ही देर में इस मामले का खुलासा करते हुए नाबालिग बेटी को हिरासत में ले लिया। पुलिस का दावा है कि मानसिक तनाव से गुजर रही बेटी ने अपनी मां और भाई की गोली मारकर हत्या कर दी और खुद के हाथ को ब्लेड से काट लिया। प्रियंका ने औरैया जिले में हुई एक अन्य घटना का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ‘‘औरैया में मनोज दुबे की हत्या हो गई। उनके परिवारजनों का वीडियो देखकर बहुत दुख हुआ। परिजन और पत्रकारों के अनुसार अपहरण के इस केस को पुलिस 5 दिन तक गुमशुदगी साबित करती रही और हाथ पर हाथ धरे बैठी रही।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।