राहुल गांधी का केंद्र पर निशाना, कहा- कोरोना महामारी के दौरान गलत फैसलों ने ली 50 लाख लोगों की जान

राहुल गांधी का केंद्र पर निशाना, कहा- कोरोना महामारी के दौरान गलत फैसलों ने ली 50 लाख लोगों की जान

राहुल गांधी ने पेट्रोल और डीजल पर कर को लेकर केंद्र पर निशाना साधते हुए उसकी तुलना पुरानी ‘‘हिंदी फिल्मों के लालची साहूकार’’ से की। लोकसभा को सूचित किया गया था कि पिछले वित्त वर्ष में पेट्रोल और डीजल पर केंद्र सरकार का कर संग्रह 88 प्रतिशत बढ़कर 3.35 लाख करोड़ रुपये हो गया।

कोरोना महामारी के मुद्दे पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर से केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर आरोप लगाया कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान भारत सरकार के गलत फैसलों से हमारे 50 लाख बहनों, भाइयों, माताओं और पिताओं की जान चली गई। अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा," सच्चाई, कोविड की दूसरी लहर के दौरान भारत सरकार के गलत फैसलों ने हमारी 50 लाख बहनों, भाइयों, माताओं और पिताओं की जान ले ली।"

आपको बता दें कि राहुल गांधी लगातार कोविड-19 महामारी के दौरान सरकार द्वारा किए गए प्रबंधन को लेकर सवाल खड़े करते रहते हैं। इसके अलावा वह किसानों के मुद्दे पर भी सरकार से सवाल पूछते हैं। आज ही उन्होंने किसान आंदोलन में अपने परिवार को खोने वाले परिजनों को कोई मुआवजा नहीं मिलेगा के फैसले पर सरकार से सवाल पूछा है और कहा है कि अपनों को खोने वालों के आँसुओं में सब रिकॉर्ड है।

इसे भी पढ़ें: प्रियंका का केंद्र पर तीखा प्रहार, कहा- महामारी के दिनों में सरकार ने ऑक्सीजन का बढ़ा दिया था निर्यात

इससे पहले राहुल गांधी ने पेट्रोल और डीजल पर कर को लेकर केंद्र पर निशाना साधते हुए उसकी तुलना पुरानी ‘‘हिंदी फिल्मों के लालची साहूकार’’ से की। लोकसभा को सूचित किया गया था कि पिछले वित्त वर्ष में पेट्रोल और डीजल पर केंद्र सरकार का कर संग्रह 88 प्रतिशत बढ़कर 3.35 लाख करोड़ रुपये हो गया। लोकसभा को इस संबंध में सूचित किए जाने के एक दिन बाद राहुल गांधी ने ट्वीट करके केंद्र की आलोचना की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।