डेल्टा प्लस वेरिएंट पर राहुल का मोदी सरकार से सवाल, तीसरी लहर को नियंत्रित करने का क्या प्लान है?

डेल्टा प्लस वेरिएंट पर राहुल का मोदी सरकार से सवाल, तीसरी लहर को नियंत्रित करने का क्या प्लान है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आगाह किया है कि अगर मौजूदा चलन जारी रहता है तो कोविड-19 के सबसे अधिक संक्रामक प्रकार डेल्टा के अन्य स्वरूपों के मुकाबले हावी होने की आशंका है। डब्ल्यूएचओ की यह चेतावनी ऐसे समय में आई है जब 85 देशों में इस स्वरूप के मिलने की पुष्टि हुई है और दुनिया के अन्य देशों में भी इसके मामले सामने आते जा रहे हैं।

देश में कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई जारी है। देश में कोरोना वायरस के नए मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है लेकिन डेल्टा प्लस वैरिएंट ने चिंता बढ़ा दी है। आज इसी को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला किया है। डेल्टा प्लस वेरिएंट को लेकर राहुल ने मोदी सरकार से सवाल किया है। डेल्टा प्लस के बढ़ते मामले को लेकर राहुल ने अपने ट्वीट के जरिए मोदी सरकार से पूछा कि इसकी जाँच व रोकथाम के लिए बड़े स्तर पर टेस्टिंग क्यों नहीं हो रही? उन्होंने पूछा कि वैक्सीन इसपर कितनी प्रभावशाली हैं व पूरी जानकारी कब मिलेगी? इसके अलावा उन्होंने सवाल किया कि तीसरी लहर में इसे नियंत्रित करने का क्या प्लान है?

आपको बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आगाह किया है कि अगर मौजूदा चलन जारी रहता है तो कोविड-19 के सबसे अधिक संक्रामक प्रकार डेल्टा के अन्य स्वरूपों के मुकाबले हावी होने की आशंका है। डब्ल्यूएचओ की यह चेतावनी ऐसे समय में आई है जब 85 देशों में इस स्वरूप के मिलने की पुष्टि हुई है और दुनिया के अन्य देशों में भी इसके मामले सामने आते जा रहे हैं। डब्ल्यूएचओ की ओर से 22 जून को जारी कोविड-19 साप्ताहिक महामारी विज्ञान अपडेट में कहा गया कि वैश्विक स्तर पर, अल्फा स्वरूप 170 देशों, क्षेत्रों या इलाकों में मिला है, बीटा स्वरूप 119 देशों में, गामा स्वरूप 71 देशों में और डेल्टा स्वरूप का 85 देशों में पता चला है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।