सीनियर सिटीजन के लिए मिलेगी कंफर्म लोअर बर्थ! भारतीय रेलवे ने बताया तरीका

सीनियर सिटीजन के लिए मिलेगी कंफर्म लोअर बर्थ! भारतीय रेलवे ने बताया तरीका

जानकारी के लिए बता दें कि, पिछले साल कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इंडियन रेलवे ने वरिष्ठ नागरिकों सहित कई श्रेणियों के लोगों के रियायती टिकटों को निलंबित कर दिया थाऔर जानकारी साझा करते हुए यह भी कहा था कि,कोरोना से वरिष्ठ नागरिकों को जोखिम ज्यादा है जिसको देखते हुए भारतीय रेलवे को रियायतें वापस लेना पड़ा था।

अब सीनियर सिटीजन को लोअर बर्थ बिना किसी परेशानी से आराम से कंफर्म मिलेगी।भारतीय रेलवे ने बताया है कि अब ट्रेन में यात्रा करने से पहले ही लोअर बर्थ कंफर्म कैसे मिलेगी।

इसे भी पढ़ें: रेलवे बना रहा है मणिपुर में सबसे ऊंचा पुल

हाल ही में एक यात्री रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को टैग करते हुए ट्वीटर पर इंडियन रेलवे से सवाल पूछा था कि, मैंने तीन सीनियर सिटीजन के लिए लोअर बर्थ के साथ टिकट बुक की थीं, उस दौरान 102 बर्थ उपलब्ध थीं, इसके बावजूद उन्हें मिडिल बर्थ, अपर बर्थ और साइड लोअर बर्थ दी गईं है। क्या आप बता सकते है कि सीट आवंटन को चलाने का क्या तर्क है? यात्री के इस सवाल पर  IRCTC ने जवाब देते हुए कहा कि, महोदय, लोअर बर्थ/सीनियर सिटीजन कोटा बर्थ केवल 60 वर्ष और उससे अधिक, 45 वर्ष और उससे अधिक की महिला आयु के लिए निर्धारित निचली बर्थ हैं, जब वो अकेले या दो यात्री (एक टिकट पर यात्रा करने वाले मानदंडों के तहत) सफर करते हैं।

IRCTC ने आगे कहा कि अगर दो से अधिक वरिष्ठ नागरिक या एक वरिष्ठ नागरिक है और दूसरा वरिष्ठ नागरिक नहीं हैं, तो सिस्टम इस पर विचार नहीं करेगा। जानकारी के लिए बता दें कि, पिछले साल कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इंडियन रेलवे ने वरिष्ठ नागरिकों सहित कई श्रेणियों के लोगों के रियायती टिकटों को निलंबित कर दिया था और जानकारी साझा करते हुए यह भी कहा था कि, कोरोना से वरिष्ठ नागरिकों को जोखिम ज्यादा है जिसको देखते हुए भारतीय रेलवे को रियायतें वापस लेना पड़ा था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...