राज ठाकरे को 13 शर्तों के साथ पुणे में सभा करने की मिली अनुमति, लाउडस्पीकर, हथियार समेत इन बातों का रखना होगा ध्यान

Raj Thackeray
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि पुणे पुलिस ने मनसे प्रमुख राज ठाकरे की 22 मई की रैली के लिए 13 शर्तें के साथ अनुमति दी है। जिनका सार्वजनिक रैली के दौरान पालन किया जाना है। इसके अलावा राज ठाकरे का अयोध्या दौरा स्थगित हो गया था उनके दौरे को लेकर एक भाजपा सांसद लगातार विरोध कर रहे थे।

मुंबई। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे की 22 मई को पुणे में होने वाली जनसभा को लेकर सशर्त अनुमति मिली है। मनसे प्रमुख को पुणे पुलिस कमिश्नर ने 13 शर्तों के साथ जनसभा करने की अनुमति दी है। दरअसल, महाराष्ट्र में अजान और लाउडस्पीकर को लेकर सियासत गर्म है और तो और राज ठाकरे इस मुद्दे पर कई बार महाराष्ट्र सरकार को खुली चुनौती दे चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: ASI ने औरंगजेब के मकबरे पर पांच दिन के लिए लगाया ताला, MNS ने दी थी चेतावनी 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि पुणे पुलिस ने मनसे प्रमुख राज ठाकरे की 22 मई की रैली के लिए 13 शर्तें के साथ अनुमति दी है। जिनका सार्वजनिक रैली के दौरान पालन किया जाना है और इसका उल्लंघन कानूनी कार्रवाई को आमंत्रित करेगा। आदेश के मुताबिक, रैली के दौरान या बाद में कोई आपत्तिजनक नारे, दंगा या अभद्र व्यवहार शामिल नहीं होना चाहिए।

पुणे में होने वाली जनसभा में कोई हथियार, तलवार, विस्फोटक प्रदर्शित नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल से ध्वनि प्रदूषण नियम का उल्लंघन नहीं होना चाहिए।

जनसभा से पहले जारी हुआ टीजर

पुणे में होने वाली जनसभा से पहले टीजर जारी किया गया है। इस टीजर की शुरुआत मनसे प्रमुख की आवाज से शुरू होता है और इसमें औरंगाबाद का संभाजीनगर नाम दिखाया गया है। टीजर को देखने के बाद ऐसा माना जा रहा है कि पुणे में होने वाली रैली में भी हिन्दुत्व का मुद्दा छाया रहेगा। इससे पहले राज ठाकरे ने अपना अयोध्या दौरा रद्द कर दिया। राज ठाकरे 5 जून को अयोध्या का दौरा करने वाले थे लेकिन फिलहाल उसे स्थगित कर दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: टीजर के जरिये 'छोटे सरकार' की हिंदुत्व की दहाड़, 'आप मुझे ताकत दो, मैं विरोधियों के दांत तोड़ने का काम करूंगा'

क्यों स्थगित हुआ अयोध्या दौरा ?

मनसे प्रमुख ने कहा था कि पुणे में होने वाली रैली में अयोध्या दौरा का ब्योरा साझा करेंगे। हालांकि भाजपा सांसद बृजभूषण शरद सिंह उनकी यात्रा का लगातार विरोध कर रहे थे। इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी दी थी कि राज ठाकरे को तब तक उत्तर प्रदेश के इस शहर में घुसने नहीं दिया जाएगा, जब तक कि वह अतीत में उत्तर भारतीयों का अपमान करने के लिए सार्वजनिक तौर पर माफी नहीं मांग लेते हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़