पंजाब के बाद राजस्थान में हलचल तेज, 8 दिन में दूसरी बार राहुल से मिले सचिन, ठुकराया PCC चीफ का पद

पंजाब के बाद राजस्थान में हलचल तेज, 8 दिन में दूसरी बार राहुल से मिले सचिन, ठुकराया PCC चीफ का पद

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने पार्टी नेता राहुल गांधी से मुलाकात की। इससे पहले सचिन पायलट ने 17 सितंबर को राहुल गांधी से मुलाकात की थी और फिर आज उन्होंने फिर मुलाकात की है। माना तो यह भी जा रहा है कि गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है।

नयी दिल्ली। पंजाब में नेतृत्व परिवर्तन के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट से मुलाकात की। माना जा रहा है कि राजस्थान में सचिन पायलट के संबंध में पार्टी कोई बड़ा फैसला कर सकती है। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब कांग्रेस का कलह समाप्त कर छुट्टियां मनाने शिमला पहुंचा गांधी परिवार, चन्नी की ताजपोशी देख पायलट की जगी आस 

8 दिन में दूसरी बार मिले सचिन

इससे पहले सचिन पायलट ने 17 सितंबर को राहुल गांधी से मुलाकात की थी और फिर आज उन्होंने फिर मुलाकात की है। माना तो यह भी जा रहा है कि गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है। हालांकि अभी कोई भी पुख्ता जानकारी नहीं मिली है।

PCC अध्यक्ष नहीं बनना चाहते सचिन

प्राप्त जानकारी के मुताबिक सचिन पायलट ने आलाकमान को राजस्थान कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री बनने से इनकार कर दिया है। पायलट ने 17 सितंबर को आलाकमान से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के दो दिन बाद उन्हें पीसीसी अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री बनने का ऑफर मिला था लेकिन उन्होंने इस पद पर दोबारा आने से साफ मना कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: कैप्टन की विदाई के बाद बढ़ सकती है राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हलचल, गहलोत और बघेल की बढ़ेगी टेंशन 

सचिन को महत्वपूर्ण पद देना चाहते हैं राहुल

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी ने राजस्थान के नेताओं से बातचीत सचिन पायलट के संबंध में कई सवाल पूछे और फीडबैक लिया। जिसके बाद वो उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी देना चाहते हैं। माना जा रहा है कि शुक्रवार को सचिन के साथ फिर से मुलाकात कर वह उन्हें इस पद के लिए मनाने का प्रयास किया होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।