• राजनाथ सिंह ने BRO की 63 परियोजनाओं का किया उद्घाटन, बोले- लद्दाख में भी शुरू होगी राजनीतिक प्रक्रिया

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में राजनीतिक प्रक्रिया शुरू हो। इसके लिए उन्होंने जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दलों से बातचीत की है और जल्द ही लद्दाख के लोगों से भी करेंगे।

लद्दाख। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित 63 बुनियादी परियोजनाओं का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि जिन सड़कों का निर्माण बीआरओ कर रहे हैं वह देश की विकास की गति को बढ़ाने वाले हैं। आज 63 पुल और सड़कों का लोकापर्ण हुआ। ये बीआरओ कर्मियों की सूझबूझ से हुआ है। इस दौरान उन्होंने कहा कि बीआरओ की जमकर प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि राष्ट्र में सड़कों, राजमार्गों और पुलों का निर्माण न हो तो राष्ट्र का विकास किसी भी सूरत में संभव नहीं है और ही राष्ट्र सुरक्षित रह सकता है। इसीलिए मैं कहता हूं कि बीआरओ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 

इसे भी पढ़ें: LAC का दौरा करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सेना का बढ़ाएंगे पराक्रम 

आतंकवाद की घटनाओं में आई कमी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि क्षेत्र को केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के बाद आतंकवादी गतिविधियों में कमी आई है। यहां निवेश लाने और बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए केंद्र द्वारा कई कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सेना द्वारा आतंकवादियों को आत्मसमर्पण किए जाने का अवसर दिया जाता है। सेना और सुरक्षाकर्मियों की संवेदनशीलता का इससे बड़ा उदाहरण नहीं हो सकता है।

उन्होंने कहा कि पांच सालों तक मैं गृहमंत्री रहा हूं। कश्मीर और लद्दाख भी जाना होता था और मैं यहां की परिस्थितियों से वाकिफ हूं। उन्होंने कहा कि 2019 की तुलना में 2020 में आतंकवादियों गतिविधियों में कमी आई है। केंद्र शासित प्रदेश बनाने से पहले हमारा उद्देश्य था कि अमन के हालात पैदा होने चाहिए और यहां किसी को भय नहीं होना चाहिए। साथ-ही-साथ सभी को रोजगार मिलने चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: पूर्वी लद्दाख विवाद को सुलझाने की एक और कोशिश, भारत और चीन के बीच होगी राजनयिक वार्ता 

रक्षा मंत्री ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद हमारी सरकार ने रोजगार की दिशा में काफी काम किया है। इस दौरान उन्होंने सरकारी योजनाओं के बारे में भी बताया।

J&K में शुरू हो राजनीतिक प्रक्रिया

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में राजनीतिक प्रक्रिया शुरू हो। इसके लिए उन्होंने जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दलों से बातचीत की है और जल्द ही लद्दाख के लोगों से भी करेंगे। इस दौरान रक्षा मंत्री गलवान घाटी का भी जिक्र किया और शहीदों को नमन किया। उन्होंने कहा कि हमारी सेना के भीतर शौर्य, पराक्रम और संयम भी है। जहां पर संयम की आवश्यकता होती है वहां पर सेना संयम बरतती है।