राजनाथ ने बांग्लादेश मुक्ति संग्राम को 20वीं सदी की ‘अभूतपूर्व’ घटना बताया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2021   08:06
राजनाथ ने बांग्लादेश मुक्ति संग्राम को 20वीं सदी की ‘अभूतपूर्व’ घटना बताया

सिंह ने कहा कि बांग्लादेश मुक्ति संग्राम की भावना को युवा पीढ़ी, खासकर सशस्त्र बलों में शामिल होने वालों के दिमाग में जिंदा रखने की जरूरत है।

नयी दिल्ली| रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि बांग्लादेश मुक्ति संग्राम 20वीं सदी की एक अभूतपूर्व घटना थी क्योंकि यह अन्याय, अत्याचार और उत्पीड़न के खिलाफ एक नैतिक लड़ाई थी।

सिंह ने यहां बांग्लादेश उच्चायोग में एक समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि 1971 की घटनाओं पर भारत की प्रतिक्रिया ‘‘मात्र राजकीय नीति के मामले से अधिक एक सभ्यता’’ को प्रतिबिंबित करती है। उन्होंने कहा कि भारत के लिए, बांग्लादेश के साथ संबंध हमेशा विशेष होते हैं और यह एक रणनीतिक साझेदारी से आगे जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: भारतीय नौसेना में शामिल हुआ INS विशाखापट्टनम, प्रधानमंत्री ने बताया गौरवमय दिन

बांग्लादेश के सशस्त्र बल दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ‘‘बांग्लादेश मुक्ति संग्राम 20वीं सदी के इतिहास में कई कारणों से एक अभूतपूर्व घटना थी। यह अन्याय, अत्याचार और उत्पीड़न के खिलाफ एक नैतिक लड़ाई थी।’’

सिंह ने कहा कि बांग्लादेश मुक्ति संग्राम की भावना को युवा पीढ़ी, खासकर सशस्त्र बलों में शामिल होने वालों के दिमाग में जिंदा रखने की जरूरत है।

उन्होंने कहा, ‘‘यह और भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि 1971 में बांग्लादेश पर अनकहे अत्याचार और दुख लाने वाली ताकतें और जिन ताकतों के खिलाफ हमने अपना खून बहाया है, वे अभी खत्म नहीं हुई हैं।’’

उन्होंने कहा कि भारत-बांग्लादेश की रक्षा और सुरक्षा चिंताओं का समर्थन करने के लिए बांग्लादेश के साथ मिलकर काम करना भारत जारी रखना चाहता है।

इसे भी पढ़ें: गाइडेड मिसाइल विध्वंसक विशाखापत्तनम रविवार को होगा नौसेना में शामिल

सिंह ने कहा कि भारत अपने पड़ोसियों की सुरक्षा और विकास संबंधी चिंताओं के प्रति बेहद संवेदनशील है और वह पड़ोसियों की ओर से पारस्परिक स्तर की संवेदनशीलता की उम्मीद करता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।