TMC और कांग्रेस के सांसदों के हंगामा के बाद राज्यसभा की कार्यवाही दूसरी बार स्थगित

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 9 2019 1:34PM
TMC और कांग्रेस के सांसदों के हंगामा के बाद राज्यसभा की कार्यवाही दूसरी बार स्थगित
Image Source: Google

सभापति ने कहा कि कांग्रेस सदस्य बी के हरिप्रसाद ने कर्नाटक मुद्दे पर चर्चा करने के लिए शून्यकाल स्थगित करने का अनुरोध किया है। नायडू ने कहा कि यह नोटिस इसलिए उन्होंने अस्वीकार किया क्योंकि शून्यकाल के दौरान कांग्रेस सदस्य यह मुद्दा उठा सकते हैं। गौरतलब है कि कर्नाटक की साल भर पुरानी कांग्रेस-जदएस गठबंधन सरकार 14 विधायकों के इस्तीफे की वजह से गिरने की कगार पर पहुंच गयी है।

नयी दिल्ली। कर्नाटक के राजनीतिक घटनाक्रम पर कांग्रेस सदस्यों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण के मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस सदस्यों के हंगामे की वजह से मंगलवार को राज्यसभा की बैठक एक बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। हंगामे की वजह से उच्च सदन में शून्यकाल और प्रश्नकाल नहीं चल पाया। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में संसद सत्र के दौरान उच्च सदन में सोमवार को पहली बार हंगामे की वजह से कार्यवाही बाधित हुई। सुबह 11 बजे बैठक शुरू होने पर सदन में सभापति एम वेंकैया नायडू ने आवश्यक दस्तावेज पटल पर रखवाने के बाद कहा कि शून्यकाल स्थगित कर दो मुद्दों पर चर्चा करने के लिए नियम 267 के तहत उन्हें दो नोटिस मिले हैं। दोनों ही नोटिस उन्होंने अस्वीकार कर दिए हैं।

इसे भी पढ़ें: TMC और कांग्रेस सांसदों ने राज्यसभा में किया हंगामा

सभापति ने कहा कि कांग्रेस सदस्य बी के हरिप्रसाद ने कर्नाटक मुद्दे पर चर्चा करने के लिए शून्यकाल स्थगित करने का अनुरोध किया है। नायडू ने कहा कि यह नोटिस इसलिए उन्होंने अस्वीकार किया क्योंकि शून्यकाल के दौरान कांग्रेस सदस्य यह मुद्दा उठा सकते हैं। 
गौरतलब है कि कर्नाटक की साल भर पुरानी कांग्रेस-जदएस गठबंधन सरकार 14 विधायकों के इस्तीफे की वजह से गिरने की कगार पर पहुंच गयी है। कांग्रेस ने भाजपा पर गठबंधन में दरार के लिए उकसाने का आरोप लगाया है। सभापति ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस की डोला बनर्जी ने सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए शून्यकाल स्थगित करने का अनुरोध करते हुए नोटिस दिया है। उन्होंने कहा ‘‘लेकिन इस मुद्दे पर 21 जून को इसी सदन में चर्चा की जा चुकी है। जिस मुद्दे पर चर्चा हो चुकी है उस पर एक ही सत्र में दोबारा चर्चा नहीं की जा सकती इसीलिए बनर्जी का नोटिस भी अस्वीकार कर दिया गया है।’’


सभापति ने शून्यकाल आरंभ करने के लिए कहा। लेकिन इसी दौरान कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के सदस्य अपने अपने मुद्दों पर चर्चा की मांग करते हुए आसन के समक्ष आ कर हंगामा करने लगे।  उल्लेखनीय है कि तृणमूल सदस्यों ने कल भी यह मुद्दा उठाया था और आसन से बोलने की अनुमति न मिलने पर उन्होंने प्रश्नकाल के दौरान सदन की कार्यवाही का बहिष्कार किया था।  नायडू ने सदस्यों से अपने स्थानों पर लौट जाने की अपील की। लेकिन सदन में व्यवस्था न बनते देख उन्होंने 11 बज कर करीब पांच मिनट पर ही बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले, पिछले सप्ताह राज्यसभा के लिए संपन्न उप चुनाव में गुजरात से जीते भाजपा सदस्य जुगलसिंह माथुरसिंह लोखंडवाला को उच्च सदन की सदस्यता की शपथ दिलाई गई।
एक बार के स्थगन के बाद दोपहर बारह बजे जब उच्च सदन की बैठक पुन: आरंभ हुई तो सदन में फिर से हंगामा शुरू हो गया। उप सभापति हरिवंश ने हंगामा कर रहे कांग्रेस सदस्यों से कहा ‘‘सभापति ने शून्यकाल में आपको कर्नाटक का मुद्दा उठाने की अनुमति दी थी लेकिन आप सहमत नहीं हुए।’’ उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों से कहा ‘‘सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण के मुद्दे पर इसी सत्र में और इसी सदन में चर्चा हो चुकी है। ’’ इसी बीच कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के सदस्य आसन के समक्ष आ कर नारे लगाने लगे। उप सभापति ने इन सदस्यों से अपने स्थानों पर लौट जाने की अपील की। हंगामा थमते न देख उन्होंने 12 बज कर करीब चार मिनट पर ही बैठक को दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video