गहलोत सरकार पर राज्यवर्धन राठौर का निशाना, कहा- कांग्रेस विधायकों की जेब में है कानून व्यवस्था

गहलोत सरकार पर राज्यवर्धन राठौर का निशाना, कहा- कांग्रेस विधायकों की जेब में है कानून व्यवस्था
Twitter

राज्यवर्धन राठौर ने दावा किया कि राजस्थान में कानून व्यवस्था कांग्रेस विधायकों की जेब में है। उन्होंने कहा कि जिस तरह गहलोत जी का इस्तीफा सोनिया मैडम के पास रखा है, उसी तरह राज्य की कानून व्यवस्था भी कांग्रेस विधायकों के जेब में गिरवी रखी है।

राजस्थान में अशोक गहलोत की सरकार लगातार भाजपा के निशाने पर है। भाजपा के प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने एक बार फिर से राजस्थान की गहलोत सरकार पर जमकर निशाना साधा है। राज्यवर्धन राठौर ने दावा किया कि राजस्थान में कानून व्यवस्था कांग्रेस विधायकों की जेब में है। उन्होंने कहा कि जिस तरह गहलोत जी का इस्तीफा सोनिया मैडम के पास रखा है, उसी तरह राज्य की कानून व्यवस्था भी कांग्रेस विधायकों के जेब में गिरवी रखी है।

इसके साथ ही भाजपा नेता ने दावा किया कि महीने भर बाद भी AEN को पीटने वाले MLA मलिंगा की गिरफ्तारी नहीं हुई। उन्होंने सवाल किया कि आखिर कैसे रुकेगा राजस्थान में अपराध, जब आरोपियों को मिल रहा हो सत्ता का साथ। राज्यवर्धन राठौर ने धौलपुर में सहायक अभियंता एवं कनिष्ठ अभियंता पर हुए जानलेवा हमले के मामले को उठाया है। इसके साथ ही उन्होंने दो अखबारों की खबर को भी ट्वीट किया है। इस मामले में कांग्रेस विधायक को आरोपी बनाया गया है। हालांकि विधायक की अब तक गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

इसे भी पढ़ें: क्या प्रशांत किशोर कांग्रेस के डूबते जहाज को बचा पाएंगे?

इसके अलावा राठौर ने गहलोत सरकार पर केंद्र के योजनाओं को रोकने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के विकास कार्यों पर गहलोत सरकार के अधिकारी भ्रष्टाचार का ब्रेक लगा रहे हैं। भारत माला प्रोजेक्ट को लेकर राजस्थान में भ्रष्टाचार का जो खेल हुआ, वह शर्मसार करने वाला है। गहलोत जी, अगर आप राजस्थान के विकास में अपना योगदान नहीं दे पा रहे हैं, तो कम से कम बाधा भी न डालिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।