अनशन पर बैठे राकेश टिकैत, कहा- गांव से पानी आएगा तभी पीऊंगा

अनशन पर बैठे राकेश टिकैत, कहा- गांव से पानी आएगा तभी पीऊंगा

राकेश टिकैत को भी पुलिस ने साफ तौर पर कह दिया है कि वह अब गाजीपुर बॉर्डर को खाली करें। हालांकि राकेश टिकैत मानने को तैयार नहीं है। माना जा रहा है कि उनके ऊपर कभी भी कार्रवाई हो सकती है।

26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा के बाद किसान आंदोलन कमजोर पड़ता जा रहा है। इन सबके बीच पुलिस प्रशासन भी अब मुस्तैदी से दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर से किसानों के प्रदर्शन को खत्म कराने की तैयारी कर रहा है। राकेश टिकैत को भी पुलिस ने साफ तौर पर कह दिया है कि वह अब गाजीपुर बॉर्डर को खाली करें। हालांकि राकेश टिकैत मानने को तैयार नहीं है। माना जा रहा है कि उनके ऊपर कभी भी कार्रवाई हो सकती है।  राकेश टिकैत के मंच से हंगामें की भी खबर आ रही है। 

इन सबके बीच राकेश टिकैत में धमकी देते हुए कहा कि जब तक जब तक सरकार से बात नहीं होगी धरणा प्रदर्शन समाप्त नहीं होगा। जब तक गांव के लोग ट्रैक्टरों से पानी नहीं लाएंगे, पानी नहीं पीऊंगा। प्रशासन ने पानी हटा दिया, बिजली काट दी, सारी सुविधा हटा दी।राकेश टिकैत ने रोते हुए आत्महत्या तक की धमकी दे दी है। उन्होंने कहा है कि लाल किले पर जो कुछ हुआ उसकी जांच होनी चाहिए। उन्हें भी तिरंगे का अपमान बर्दाश्त नहीं होगा। इन सबके बीच खबर यह भी आ रही है कि राकेश टिकैत से रालोद अध्यक्ष अजित सिंह ने भी बातचीत की है और उनका हौसला बढ़ाया है। अजीत सिंह ने कहा है कि वह उनके साथ है।

इसे भी पढ़ें: सीधे प्रधानमंत्री से सवाल पूछने की हिम्मत रखने वाला किसान नेता, जिसके दरवाजे तक आती थी सरकार

आपको बता दें कि राकेश टिकैत उन किसान नेताओं में शामिल है जिन्हें दिल्ली पुलिस की ओर से गणतंत्र दिवस के दिन हुए हिंसा के लिए नोटिस दिया गया है। इसके अलावा तमाम बॉर्डर की इलाको में फिलहाल धारा 144 लगा दी गई है। साथ ही साथ धारा 133 में लगा दी गई है। गाजीपुर बॉर्डर पर पुलिस बलों की तैनाती कर दी गई है। इन सबके बीच सिंघु बॉर्डर पर भी अब अब भारी तादाद में पुलिस बल तैनात किए गए हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।