राज्यपाल के समर्थन में उतरे रवि राणा, बोले- भगत सिंह कोश्यारी एक ईमानदार और सज्जन व्यक्ति हैं

Ravi Rana
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
विधायक रवि राणा ने कहा कि राज्यपाल एक ईमानदार और सज्जन व्यक्ति हैं। हो सकता है कि उन्होंने भौगोलिक दृष्टि से बयान दिया हो। उनके बयान की गलत व्याख्या करने की जरूरत नहीं है। मुंबई देश का सबसे हाईटेक शहर है। यह देश की आर्थिक राजधानी है।

मुंबई। अमरावती सांसद नवनीत राणा के विधायक पति रवि राणा ने शनिवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के विवादित बयान का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि राज्यपाल एक सज्जन व्यक्ति हैं। हो सकता है उन्होंने भौगोलिक दृष्टि से बयान दिया होगा। दरअसल, भगत सिंह कोश्यारी ने शुक्रवार को कहा था कि अगर मुंबई से गुजरातियों और राजस्थानियों को हटा दिया जाए तो शहर के पास न तो पैसे रहेंगे और न ही वित्तीय राजधानी का तमगा।

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल के बयान से एकनाथ शिंदे ने काटी कन्नी, बोले- हम उनके बयानों का नहीं करेंगे समर्थन 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रवि राणा ने कहा कि राज्यपाल एक ईमानदार और सज्जन व्यक्ति हैं। हो सकता है कि उन्होंने भौगोलिक दृष्टि से बयान दिया हो। उनके बयान की गलत व्याख्या करने की जरूरत नहीं है। मुंबई देश का सबसे हाईटेक शहर है। यह देश की आर्थिक राजधानी है। मुंबई की शुरुआत मिल मजदूरों से हुई। हालांकि, उसके बाद कई व्यापारी और जाति-धर्म के लोग यहां आए। इसलिए मुंबई के विकास में सभी का योगदान है। इसके साथ ही रवि राणा ने कहा कि मुंबई सबका है।

राज्यपाल ने क्या कहा था ?

मुंबई के पश्चिमी उपनगर अंधेरी में एक चौक के नामकरण समारोह को संबोधित करते हुए भगत सिंह कोश्यारी ने कहा था कि मैं यहां के लोगों को बताना चाहता हूं कि अगर गुजरातियों और राजस्थानियों को महाराष्ट्र, खासतौर पर मुंबई व ठाणे से हटा दिया जाए, तो आपके पास पैसे नहीं रहेंगे और न ही मुंबई वित्तीय राजधानी बनी रह पाएगी। राज्यपाल के इस बयान पर कई राजनीतिक पार्टियों ने आपत्ति दर्ज कराई।

भगत सिंह कोश्यारी के बयान को लेकर शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने जमकर निशाना साधा है। इसके साथ ही भगत सिंह कोश्यारी को राज्यपाल पद से हटाने की भी मांग उठने लगी है। एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि मैं राष्ट्रपति से भगत सिंह कोश्यारी को हटाने का अनुरोध करती हूं।

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल के बयान पर बरसीं सुप्रिया सुले, राष्ट्रपति से भगत सिंह कोश्यारी को हटाने का किया अनुरोध, बोलीं- उन्होंने लोगों को पहुंचाई है चोट 

मुख्यमंत्री ने काटा किनारा

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने राज्यपाल के बयान को लेकर किनारा काटा। उन्होंने कहा कि राज्यपाल के अपने निजी विचार हैं लेकिन हम उनके बयानों का समर्थन नहीं करेंगे। राज्यपाल का पद एक संवैधानिक पद है। उन्हें संविधान की नैतिकता के तहत बोलना चाहिए। हम मुंबई के लिए मुंबईकर और मराठी लोगों के योगदान को कभी नहीं भूलेंगे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़