दिल्ली समेत देशभर के अस्पतालों में बंद रहेगी ओपीडी, हड़ताल पर क्यों है डॉक्टर?

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2021   08:32
दिल्ली समेत देशभर के अस्पतालों में बंद रहेगी ओपीडी, हड़ताल पर क्यों है डॉक्टर?

रेजीडेंट डॉक्टरों ने आज से देशभर में ओपीडी सेवाएं निलंबित करने का आह्वान किया है।राम मनोहर लोहिया, लेडी हार्डिंग और राष्ट्रीय राजधानी के कुछ अन्य अस्पतालों के रेजीडेंट डॉक्टर्स ने प्रदर्शन के तौर पर 27 नवंबर से ओपीडी सेवाएं निलंबित करने की घोषणा की है।

नयी दिल्ली। ‘फेडरेशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन’ (फोरडा) ने नीट-पीजी 2021 काउंसिलिंग कराने में कथित देरी के विरोध में शनिवार से अस्पतालों में बाहरी मरीज विभाग की सेवाएं निलंबित करने का देशव्यापी आह्वान किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया को लिखे पत्र में फोरडा ने कहा कि ‘‘पहले से काम का अत्यधिक बोझ’’ झेल रहे देश के रेजीडेंट डॉक्टर्स कोविड-19 महामारी फैलने के बाद से अग्रिम मोर्चे पर लड़ रहे हैं और उन्होंने नीट-पीजी काउंसिलिंग को लेकर उच्चतम न्यायालय में चल रही सुनवाई का कुछ सकारात्मक नतीजा आने की उम्मीद में 25 नवंबर तक धैर्यपूर्वक इंतजार किया।

इसे भी पढ़ें: नीति आयोग की रिपोर्ट में बिहार के बाद झारखंड के सबसे गरीब होने पर राजनीति गर्म

उसने कहा, ‘‘बहरहाल, उनको शारीरिक और मानसिक कष्टों से कोई राहत मिलती नहीं दिख रही है और अदालत की अगली सुनवाई छह जनवरी 2022 को होगी। देशभर के रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशंस (आरडीए) के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा के बाद काउंसिलिंग में बार-बार देरी और उसे स्थगित करने के विरोध में हमने शनिवार 27 नवंबर से बाहरी मरीज विभाग (ओपीडी) सेवाएं निलंबित करने का फैसला लिया है।’’ राम मनोहर लोहिया, लेडी हार्डिंग और राष्ट्रीय राजधानी के कुछ अन्य अस्पतालों के रेजीडेंट डॉक्टर्स ने प्रदर्शन के तौर पर 27 नवंबर से ओपीडी सेवाएं निलंबित करने की घोषणा की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...