PM मोदी की यास पर रिव्यू मीटिंग, नहीं शामिल होंगी ममता, शुभेंदु को बुलाने से नाराज

PM मोदी की यास पर रिव्यू मीटिंग, नहीं शामिल होंगी ममता, शुभेंदु को बुलाने से नाराज

बंगाल में चक्रवात यास से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए बुलाई बैठक में शुभेंदु अधिकारी को भी आमंत्रण दिया गया है, जिसको लेकर ममता बनर्जी ने नाराजगी जताई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बंगाल की सीएम ममता बनर्जी बैठक में शामिल नहीं होंगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओडिशा और बंगाल में चक्रवात यास की वजह से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए हवाई दौरा कर रहे हैं। इसके बाद पीएम मोदी राज्य सरकारों के साथ चक्रवात यास से प्रभावित इलाकों की समीक्षा करेंगे। लेकिन प्रधानमंत्री के सीएम के साथ बैठक को लेकर राजनीति का दौर शुरू हो गया है। बंगाल में चक्रवात यास से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए बुलाई बैठक में शुभेंदु अधिकारी को भी आमंत्रण दिया गया है, जिसको लेकर ममता बनर्जी ने नाराजगी जताई है। 

इसे भी पढ़ें: चक्रवाती तूफान यास से हुए नुकसान को लेकर पीएम मोदी की ओडिशा मुख्यमंत्री के साथ बैठक

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बंगाल की सीएम ममता बनर्जी बैठक में शामिल नहीं होंगी। हालांकि ममता बनर्जी दस्तावेज सौंपने के लिए कलाईकुंडा एयरफोर्स स्टेशन जाएंगी। जहां प्रधानमंत्री की ओर से बैठक बुलाई गई है। 

राहत पैकेज पर नजर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवात ताउते से प्रभावित गुजरात के लिये 1000 करोड़ रुपये की तत्काल आर्थिक सहायता की घोषणा की थी। पीएम की ओर से ‘ताउते’ से प्रभावित सभी राज्यों में चक्रवात संबंधी घटनाओं में मारे गए लोगों के परिजनों के लिये दो लाख रुपये तथा घायलों के लिये 50 हजार रुपये के मुआवजे की भी घोषणा की गई थी। प्रधानमंत्री ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी और शीर्ष अधिकारियों के साथ यहां चक्रवात की वजह से हुए नुकसान के आकलन के लिये समीक्षा बैठक के बाद सहायता पैकेज को मंजूरी दी गई थी। ऐसे में इस बात पर सभी की निगाहें कि क्या प्रधानमंत्री की ओर से किसी तरह का राहत पैकेज का ऐलान यास प्रभावित राज्यों के लिए किया जाएगा? 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।