आरएसएस-भाजपा को सबरीमाला पर न्यायालय का फैसला मान लेना चाहिए: दिग्विजय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 14, 2019   19:24
आरएसएस-भाजपा को सबरीमाला पर न्यायालय का फैसला मान लेना चाहिए: दिग्विजय

उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल 28 सितंबर को सभी आयु वर्ग की महिलाओं को भगवान अयप्पा के मंदिर जाने और पूजा करने की अनुमति दी थी। न्यायालय के इस फैसले के बाद राज्य सरकार ने फैसले पर अमल करने की कोशिश की, जिसके बाद राज्य में हिंसक प्रदर्शक हुए।

भोपाल। कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि राम मंदिर पर आये अदालत के फैसले की तरह आरएसएस-भाजपा को सबरीमाला मंदिर पर दिये गये उच्चतम न्यायालय के फैसले को मान लेना चाहिए। उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर दायर की गई सभी पुनर्विचार याचिकाओं को सात न्यायाधीशों वाली पीठ के पास भेजने का आदेश दिया।

इसे भी पढ़ें: SC की क्लीनचिट के बाद भी जारी है राहुल का राफेल राग, बोले- जस्टिस जोसेफ ने जांच के रास्ते खोले

इस पर दिग्विजय ने यहां संवाददाताओं को बताया, ‘‘हमारी पार्टी की सदैव यह राय रही है कि अयोध्या के राम मंदिर जैसे मतभेदों को न्यायालय पर छोड़ देना चाहिए। मुझे खुशी है कि सबने राम मंदिर मामले में अदालत का फैसला मान लिया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इससे आरएसएस-भाजपा को सीख मिलनी चाहिए। जो अदालत का फैसला है, उसे मानना चाहिए।’’ दिग्विजय ने आगे बताया, ‘‘सबने राम मंदिर का फैसला मान लिया, तो सबरीमाला का भी मान लेना चाहिए।’’ उच्चतम न्यायालय ने आज के अपने फैसले में कहा कि धार्मिक स्थलों पर महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध केवल सबरीमला तक ही सीमित नहीं है, बल्कि अन्य धर्मों में भी ऐसा है। इसके साथ ही न्यायालय ने सभी पुनर्विचार याचिकाओं को सात न्यायाधीशों वाली पीठ के पास भेज दिया।

इसे भी पढ़ें: राफेल पर SC के फैसले को अमित शाह ने दुर्भावनापूर्ण अभियान को करारा जवाब बताया

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल 28 सितंबर को सभी आयु वर्ग की महिलाओं को भगवान अयप्पा के मंदिर जाने और पूजा करने की अनुमति दी थी। न्यायालय के इस फैसले के बाद राज्य सरकार ने फैसले पर अमल करने की कोशिश की, जिसके बाद राज्य में हिंसक प्रदर्शक हुए। इससे पहले देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिवस पर यहां प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में पार्टी नेताओं को संबोधित करते हुए दिग्विजय ने आरोप लगाया कि आज देश के स्वतंत्रता सेनानियों की छवि को बदनाम किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘आज भारत का इतिहास बदला जा रहा है और हमारे स्वतंत्रता सेनानियों की छवि को बदनाम किया जा रहा है।’’ दिग्विजय ने कांग्रेस नेताओं से आग्रह किया कि वे देश के इतिहास एवं स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में बच्चों को बताएं और इसके खिलाफ लड़ें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।