राहुल के करीबी के ट्वीट से पंजाब कांग्रेस में घमासान, सीएम चेहरे की दौड़ में टॉप पर रहा इस नेता का नाम

राहुल के करीबी के ट्वीट से पंजाब कांग्रेस में घमासान, सीएम चेहरे की दौड़ में टॉप पर रहा इस नेता का नाम

राहुल के करीबी कांग्रेस नेता निखिल अल्वा ने कांग्रेस आलाकमान से अलग राह पकड़ ली। उन्होंने पंजाब में कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री चेहरे के लिए लोगों से राय लेनी शुरू कर दी। इसके लिए ट्विटर पर लोगों के सामने बकायदा चार विकल्प रखे गए।

राहुल गांधी के करीबी कांग्रेस नेता निखिल अल्वा के एक ट्वीट से पंजाब कांग्रेस में हड़कंप मच गया। आम आदमी पार्टी की तर्ज पर निखिल अल्वा ने ट्विटर के जरिये लोगों से पूछा कि पंजाब में कांग्रेस के सीएम पद का चेहरा किसे होना चाहिए। इससे पहले कांग्रेस ने सामूहिक नेतृत्व में चुनाव लड़ने का ऐलान किया था। लेकिन राहुल के करीबी कांग्रेस नेता निखिल अल्वा ने कांग्रेस आलाकमान से अलग राह पकड़ ली। उन्होंने पंजाब में कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री चेहरे के लिए लोगों से राय लेनी शुरू कर दी। इसके लिए ट्विटर पर लोगों के सामने बकायदा चार विकल्प रखे गए। 

इसे भी पढ़ें: सचिन पायलट का दावा, उत्तराखंड और पंजाब में कांग्रेस पार्टी बनाएगी सरकार

पहले पर चरणजीत सिंह चन्नी का नाम लिखा। दूसरे नंबर पर नवजोत सिंह सिद्धू का नाम था। जबकि तीसरे नंबर पर सुनील जाखड़ को भी इस रेस में दिखाया गया। वहीं चौथे पर लिखा गया कि सीएम के चेहरे की जरूरत नहीं है। इस पोल में 69% लोगो ने मौजूदा CM को ही पार्टी का मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाने के लिए कहा है जबकि 12% ने नवजोत सिंह सिद्धू को कहा है वहीं 10% ने बिना चेहरे और 9% लोगो ने सुनील जाखड़ को अपना पसंद बताया है।

इसे भी पढ़ें: ED की छापेमारी पर CM चन्नी बोले, चुनाव की वजह से बनाया जा रहा है निशाना, हम डरने वाले नहीं

निखिल अल्वा सोनिया गांधी की करीबी रहीं मारग्रेट अल्वा के बेटे हैं। निखिल कई वर्षों से राहुल गांधी के साथ हैं और उन्होंने कई जिम्मेदारियों का सफल निर्वहन किया है। निखिल को राहुल गांधी के खास सहयोगी एवं मीडिया रणनीतिकार के तौर पर देखा जाता है। इन दिनों राहुल गांधी के वीडियो कंटेंट की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। इससे पहले कांग्रेस ने बॉलीवुड स्टार सोनू सूद के जरिए संकेत दिए थे कि पंजाब में चरणजीत चन्नी कांग्रेस का सीएम चेहरा हो सकते हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।