बिहार में कानून का राज स्थापित रखना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है: राज्यपाल

Phagu Chauhan
उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा भ्रष्टाचार, आय से अधिक सम्पत्ति अथवा पदों के दुरुपयोग में संलिप्त भ्रष्ट लोक सेवकों के विरूद्ध कठोर एवं प्रभावकारी कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा समाज सुधार के कार्यक्रम लगातार चलाये जा रहे हैं।

पटना|  बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने बुधवार को कहा कि राज्य में कानून का राज स्थापित रखना प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। चौहान ने 73वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर यहां ऐतिहासिक गांधी मैदान में झंडोत्तोलन के बाद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य में कानून का राज स्थापित रखना प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा अपराध नियंत्रण के लिए सभी आयामों पर योजनाबद्ध तरीके से काम किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि इसके लिए पुलिस बल की संख्या में बढ़ोत्तरी की गयी है और पुलिस के लिए वाहन एवं अन्य आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराये गये हैं। राज्यपाल ने कहा कि राज्य में सामाजिक सौहार्द एवं साम्प्रदायिक सद्भाव का माहौल है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने हमेशा से सुशासन एवं न्याय के साथ विकास पर जोर दिया है और सभी क्षेत्रों और वर्गों के विकास के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा भ्रष्टाचार, आय से अधिक सम्पत्ति अथवा पदों के दुरुपयोग में संलिप्त भ्रष्ट लोक सेवकों के विरूद्ध कठोर एवं प्रभावकारी कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा समाज सुधार के कार्यक्रम लगातार चलाये जा रहे हैं।

चौहान ने कहा कि इस वर्ष की शुरूआत से ही देश के अन्य राज्यों की तरह बिहार में भी कोविड-19 के नये स्वरूप ओमीक्रोन के आने से मामले अचानक तेजी से बढ़े हैं। उन्होंने कहा संकट की इस घड़ी में राज्य सरकार लोगों के साथ है। उन्होंने कहा कि संक्रमण की उच्च दर को देखते हुए कोरोना जांच की रफ्तार को बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि अब तक 18 वर्ष से ऊपर के छह करोड़ से अधिक लाभार्थियों को टीके की पहली खुराक तथा चार करोड़ 64 लाख लाभार्थियों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है।

उन्होंने कहा कि तीन जनवरी से 15-18 वर्ष के उम्र के बच्चों का भी टीकाकरण शुरू किया गया है और अब तक 37 लाख से अधिक बच्चों को कोविड रोधी टीके की पहली खुराक दी गयी है। इससे पूर्व राज्यपाल ने मार्च पास्ट की भी सलामी ली।

उन्होंने इस अवसर पर शौर्य पुरस्कार से सम्मानित विजेताओं को पुरस्कार एवं प्रशंसा-पत्र भी प्रदान किये। इस मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद सहित अन्य व्यक्ति और वरिष्ठ पदाधिकारी उपस्थित थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़