संघ को देशभक्ति के लिए अशोक गहलोत के प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं: सतीश पूनिया

sangh-does-not-need-ashok-gehlot-s-certificate-for-patriotism-satish-poonia
देश पर जब भी कोई विपत्ति आती है तब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ता हमेशा देश के लिए तत्तपर रहते है। संघ के कार्यकर्ता एक सैनिक की तरह बिना भेदभाव के समाज में हमेशा अपनी भूमिका निष्ठा से निभाते है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा है कि राष्ट्रवादी संगठन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को अपनी देशभक्ति प्रमाणित करने के लिए कांग्रेस और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा भाजपा और संघ पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी तथा सरदार पटेल के नामों लेकर वोटों की राजनीति करने के बयान की कठोर शब्दों में निंदा करते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी स्वयं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से प्रभावित थे। 

उन्होंने कहा कि संघ और भाजपा हमेशा से महात्मा गांधी और देश के अन्य महापुरुषों के प्रति सम्मान का भाव रखते है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने महात्मा गांधी की ग्राम स्वराज नीति को अंत्योदय योजना के माध्यम से आगे बढ़ाया। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. श्री भैरोसिंह जी शेखावत जी के शासनकाल में भी काम के बदले अनाज योजना के माध्यम से यही विचारधारा मुखरित हुई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में चल रही केन्द्र की वर्तमान सरकार भी आमजन के कल्याण के प्रतिबद्ध है। 

इसे भी पढ़ें: वाकई जादूगर हैं अशोक गहलोत, पायलट को छकाने के चक्कर में बसपा को साफ कर दिया

देश पर जब भी कोई विपत्ति आती है तब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ता हमेशा देश के लिए तत्तपर रहते है। संघ के कार्यकर्ता एक सैनिक की तरह बिना भेदभाव के समाज में हमेशा अपनी भूमिका निष्ठा से निभाते है। वहीं नेतृत्वहीन कांग्रेस एक परिवार के प्रति समर्पित बिखरे हुए संगठन से अधिक कुछ नहीं है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विफलताओं को छुपाने के लिए आधारहीन बयान दे रहे है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़