झारखंड में दस रुपये में धोती, साड़ी एवं लुंगी योजना प्रारंभ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2021   05:19
झारखंड में दस रुपये में धोती, साड़ी एवं लुंगी योजना प्रारंभ

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बुधवार को आयोजित कार्यक्रम में सोना-सोबरन धोती-साड़ी वितरण योजना का उद्घाटन करते हुए कहा कि इस योजना के तहत बीपीएल कार्ड धारियों को मात्र 10 रुपये में साड़ी, धोती और लुंगी वर्ष में दो बार दी जायेगी।

 झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बुधवार को दुमका में ‘सोना-सोबरन धोती-साड़ी’ वितरण योजना आरंभ की जिसके तहत गरीबों को सिर्फ दस रुपये में धोती, साड़ी एवं लुंगी वर्ष में दो बार मिल सकेगी।

मुख्यमंत्री ने आज यहां आयोजित कार्यक्रम में सोना-सोबरन धोती-साड़ी वितरण योजना का उद्घाटन करते हुए कहा कि इस योजना के तहत बीपीएल कार्ड धारियों को मात्र 10 रुपये में साड़ी, धोती और लुंगी वर्ष में दो बार दी जायेगी।

इसे भी पढ़ें: झारखंड के मुख्यमंत्री के भोजपुरी, मगही को लेकर की गई टिप्पणी पर भाजपा ने आपत्ति जतायी

उन्होंने कहा कि पूरे राज्य के 57 लाख लोगों को इस योजना का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा,‘‘ गरीबों के लिये हमने यह योजना 2014 में ही शुरू की थी परंतु हमारी सरकार चली गयी और पूर्ववर्ती सरकार ने इसे बंद कर दिया था, जिसे फिर आज फिर से चालू करना पड़ा।’’

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूलों में विद्यार्थियों को मध्याह्न भोजन में अब तीन के बजाए छहअंडे देने का निर्णय सरकार ने लिया है। मुख्यमंत्री ने ऑनलाइन 37 करोड़ 92 लाख 39 हज़ार 800 रुपए की 18 योजनाओं का उद्घाटन और 2 अरब 30 करोड़, 76 लाख 7 हज़ार 600 रुपए की कई योजनाओं की आधारशिला रखी।

इसे भी पढ़ें: लगभग पांच माह बाद देवघर का बाबा धाम खुला, भक्तों में उत्साह

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने कई योजनाएं शुरू की है। इन सभी योजनाओं को तेजी के साथ धरातल पर उतारा जा रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...