सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग मामले पर सुनवाई करने से किया इनकार, माकपा ने वापस ली याचिका

सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग मामले पर सुनवाई करने से किया इनकार, माकपा ने वापस ली याचिका
प्रतिरूप फोटो
Creative Commons licenses

सुप्रीम कोर्ट ने एसडीएमसी के शाहीन बाग इलाके में इमारतों को गिराने के खिलाफ माकपा की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया। इस दौरान कोर्ट ने याचिकाकर्ता से हाई कोर्ट से बेहतर संपर्क करने को कहा है। इसके साथ ही कोर्ट ने प्रभावित पक्षों को कोर्ट में आने दें।

नयी दिल्ली। दिल्ली के शाहीन बाग में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) के अतिक्रमण विरोधी अभियान के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सुनवाई करने से इनकार कर दिया। जिसके बाद माकपा ने याचिका वापस ले ली। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को हाई कोर्ट जाने की छूट दी है। 

इसे भी पढ़ें: बीजेपी का AAP-कांग्रेस पर तंज, शाहीनबाग़ में बांग्लादेशी-रोहिंग्या के अवैध ठिकानों को बचाने के लिए सड़क पर लेटने वालों को जनता भी लेटा देगी 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने एसडीएमसी के शाहीन बाग इलाके में इमारतों को गिराने के खिलाफ माकपा की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया। इस दौरान कोर्ट ने याचिकाकर्ता से हाई कोर्ट से बेहतर संपर्क करने को कहा है। इसके साथ ही कोर्ट ने प्रभावित पक्षों को कोर्ट में आने दें। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के शाहीन बाग में अतिक्रमण के खिलाफ SDMC की कार्रवाई, बुलडोजर के सामने बैठे लोग, कुछ महिलाओं को हिरासत में लिया 

शाहीन बाग में हुआ भारी हंगामा

शाहीन बाग इलाके में एसडीएमसी द्वारा अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई के विरोध में लोग सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। लोगों ने बुलडोजर को सड़क पर ही रोक दिया गया है। इस दौरान आम आदमी पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खां ने कहा कि मस्जिद के सामने एक शौचालय था, जिसे मैंने अपने पैसे से हटवाया। पूरी विधानसभा में जहां-जहां अतिक्रमण है, एमसीडी वाले मुझे बताएं, मैं खुद हटवा दूंगा। ये यहां आकर माहौल खराब कर रहे हैं, राजनीतिकरण किया जा रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।