जम्मू : अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास ड्रोन दिखने के बाद सुरक्षाबलों का तलाश अभियान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2021   17:05
जम्मू : अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास ड्रोन दिखने के बाद सुरक्षाबलों का तलाश अभियान

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान से लगी हुई अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) के पास पर्गवाल इलाके में कुछ स्थानीय लोगों ने कथित तौर पर एक उड़ने वाली वस्तु देखी, जिसके बाद पुलिस ने इलाके में तलाश अभियान चलाया।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान से लगी हुई अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) के पास पर्गवाल इलाके में कुछ स्थानीय लोगों ने कथित तौर पर एक उड़ने वाली वस्तु देखी, जिसके बाद पुलिस ने इलाके में तलाश अभियान चलाया। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि समझा जाता है कि उड़ने वाली यह वस्तु ड्रोन थी। अधिकारियों के मुताबिक, बृहस्पतिवार की शाम को चमकती वस्तु देखे जाने के बाद पर्गवाल इलाके के कई गांवों में पुलिस ने तलाश अभियान चलाया। देर रात को तलाश अभियान रोक दिया गया और सुबह करीब पांच बजे दोबारा शुरू किया गया।

इसे भी पढ़ें: सीआरपीएफ ने असम-मिजोरम के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर गश्त लगाना शुरू किया

हालांकि तलाश अभियान में कुछ भी संदिग्ध नहीं पाया गया। इस बीच, बृहस्पतिवार को सांबा जिले के बारी-ब्राह्मणा, चिलाद्या और गगवाल इलाकों मेंतीन संदिग्ध पाकिस्तानी ड्रोन भी देखे गए। अधिकारियों के मुताबिक, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों ने एक ड्रोन पर पाकिस्तान की ओर लौटने से पहले चिलाद्या में दो गोलियां भी चलाईं।

इसे भी पढ़ें: गहलोत सरकार के प्रदर्शन पर अजय माकन की मुहर, कहा- सभी विधायक खुश

उन्होंने बताया कि बारी-ब्राह्मणा और जम्मू-पठानकोट राजमार्ग पर गगवाल में संवेदनशील सुरक्षा प्रतिष्ठानों के ऊपर चक्कर लगाने के बाद अन्य दो ड्रोन नदारद हो गए। करीब एक सप्ताह पहले सीमाई इलाके में कनाचक के पास पुलिस ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया था जो पांच किग्रा विस्फोटक ले कर जा रहा था। गौरतलब है कि 27 जून को जम्मू में भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के अड्डे पर ड्रोन के जरिए विस्फोट किया गया था, जिसमें दो सुरक्षाकर्मी घायल हो गए थे। इस घटनाके बाद से ही विशेष रूप से ड्रोन संबंधी गतिविधियों में तेजी आई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।