लगता है कांग्रेस के नेता चीन के प्रवक्ता हैं, सवाल करने की नहीं करते हिम्मत: प्रह्लाद जोशी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 26, 2020   21:38
लगता है कांग्रेस के नेता चीन के प्रवक्ता हैं, सवाल करने की नहीं करते हिम्मत: प्रह्लाद जोशी

वरिष्ठ भाजपा नेता प्रह्लाद जोशी ने ट्वीट किया, ‘‘ऐसा लगता है कि कांग्रेस के नेता चीन के प्रवक्ता बन गए हैं। वे सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ बातें करते हैं और कभी चीन से सवाल करने की हिम्मत नहीं करते हैं।’’

नयी दिल्ली। वरिष्ठ भाजपा नेता और संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने चीन के साथ सीमा पर गतिरोध के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधने को लेकर कांग्रेस पर पलटवार करते हुए शुक्रवार को कहा कि ऐसा लगता है कि विपक्षी पार्टी के नेता ‘चीन के प्रवक्ता बन गए हैं क्योंकि वे उससे सवाल पूछने की हिम्मत नहीं करते।’ उन्होंने ‘राजीव गांधी फाउंडेशन’ द्वारा चीनी दूतावास से कथित तौर पर अनुदान लेने को लेकर कांग्रेस को आड़े हाथों लिया और कहा कि इस पर और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ करार पर कांग्रेस के नेताओं की ‘चुप्पी’ हैरान करने वाली है। 

इसे भी पढ़ें: सरकार को कांग्रेस पर निशाना साधने के बजाए चीन पर पलटवार करना चाहिए: अधीर 

जोशी ने ट्वीट किया, ‘‘ऐसा लगता है कि कांग्रेस के नेता चीन के प्रवक्ता बन गए हैं। वे सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ बातें करते हैं और कभी चीन से सवाल करने की हिम्मत नहीं करते हैं।’’ चीन के साथ गतिरोध को लेकर भाजपा एवं कांग्रेस के बीच चल रहे वाकयुद्ध के बीच सत्तारूढ़ पार्टी ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया था कि संपग्र सरकार के समय ‘राजीव गांधी फाउंडेशन’ को चीनी दूतवास से अनुदान मिला था और इस संस्था ने दोनों देशों के बीच मुक्त व्यापार समझौते की पैरवी की थी। कांग्रेस ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए भाजपा ऐसे आरोप लगा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।