सचिन पायलट पर बोले शांति धारीवाल, गद्दारी करने वालों को पुरस्कार बर्दाश्त नहीं

Shanti Dhariwal
ANI
अंकित सिंह । Sep 26, 2022 6:49PM
शांति धारीवाल ने साफ तौर पर कहा है कि वह सोनिया गांधी के सिपाही हैं। अजय माकन पर निशाना साधते हुए कहा कि पर्यवेक्षक उन्हें सीएम बनाने के प्रस्ताव को लेकर आए थे। वे पक्षपातपूर्ण तरीके से विधायकों से बातचीत करने की कोशिश कर रहे थे। हम लोग हमेशा कांग्रेस के सिपाही थे और आगे भी रहेंगे।

राजस्थान में कांग्रेस के लिए मुश्किलें लगातार बढ़ती हुई दिखाई दे रही हैं। इन सबके बीच अजय माकन अशोक गहलोत और सचिन पायलट के अलावा एक नाम की खूब चर्चा हो रही है। वह नाम है गहलोत सरकार में मंत्री शांति धारीवाल का। इन्हीं के घर वह बैठक हुई थी जिसमें सभी विधायक पहुंचे थे। इसी बैठक को अजय माकन अनुशासनहीनता बता रहे हैं। इन सब के बीच शांति धारीवाल ने आज चुप्पी तोड़ी है। शांति धारीवाल ने साफ तौर पर कहा है कि वह सोनिया गांधी के सिपाही हैं। अजय माकन पर निशाना साधते हुए कहा कि पर्यवेक्षक उन्हें सीएम बनाने के प्रस्ताव को लेकर आए थे। वे पक्षपातपूर्ण तरीके से विधायकों से बातचीत करने की कोशिश कर रहे थे। हम लोग हमेशा कांग्रेस के सिपाही थे और आगे भी रहेंगे। 

इसे भी पढ़ें: CM अशोक गहलोत गुट के शांति धारीवाल का वीडियो, अगर गहलोत को बदला गया तो कांग्रेस को होगा नुकसान

इसके अलावा उन्होंने सचिन पायलट पर भी निशाना साधा। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि जिसने सरकार गिराने की कोशिश की, जिसने हमसे गद्दारी की, उसे हम सीएम नहीं बनने देंगे। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति विधायकों को लेकर एक होटल में ठहरा था और सरकार गिराने की कोशिश की थी, उसे मुख्यमंत्री बनाने की बात की जा रही थी। हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि उपमुख्यमंत्री होने के नाते और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते सचिन पायलट लगातार गहलोत सरकार के खिलाफ बोलते रहे। सरकार गिराने की कोशिश करते रहे। आज उन्हें पुरस्कार देने की बात की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान सियासी घटनाक्रम पर सोनिया गांधी ने मांगी लिखित रिपोर्ट, अजय माकन बोले- हमारे सामने रखी गई थी तीन शर्त

धारीवाल ने साफ तौर पर कहा है कि मैंने 50 सालों से राजनीति की है। कभी भी मैं कांग्रेस के खिलाफ नहीं किया। उन्होंने कहा कि आज हमारे खिलाफ बातें कही जा रही है। एक महासचिव सचिन पायलट का पक्ष रख रहा है। ऐसे में हम लोगों की भावनाएं भड़कने ही थी। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि हम सोनिया गांधी के हुक्म को मानेंगे। लेकिन उन्होंने बार-बार कहा कि गद्दार व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाना हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। विधायक बर्दाश्त नहीं करेंगे। 

अन्य न्यूज़