मुख्यमंत्री शिवराज ने 'टीका नहीं तो संजीवनी नहीं' का दिया नारा, सहयोग के लिए कमलनाथ को दी बधाई

मुख्यमंत्री शिवराज ने 'टीका नहीं तो संजीवनी नहीं' का दिया नारा, सहयोग के लिए कमलनाथ को दी बधाई

मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने बीजेपी दफ्तर में योग किया। उन्होंने कहा कि शरीर स्वस्थ और निरोग रहे, इसकी कला योग है। मुख्यमंत्री ने टीका नहीं तो संजीवनी नहीं का आज नया नारा दिया है। इसके साथ ही उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को वैक्सीनेशन के लिए अपील करने पर बधाई दी।

भोपाल। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने बीजेपी दफ्तर में योग किया। उन्होंने कहा कि शरीर स्वस्थ और निरोग रहे, इसकी कला योग है। योग का मतलब जोड़ना, योग आत्मा को परमात्मा से जोड़ता है। योग से शरीर को स्वस्थ और निरोग रखा जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें:CM शिवराज ने जताई तीसरी लहर की आशंका, कहा- इससे पहले वैक्सीनशन जरूरी 

शिवराज सिंह चौहान ने सभी से योग करने और वैक्सीन लगवाने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीन लगने के बाद, कोरोना नहीं होगा और हुआ भी तो छू के निकल जायेगा। उन्होंने कहा कि डॉक्टर, पुलिस, मीडिया, स्वंय सेवी संग़ठन, सामाजिक संगठन सब सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी तरह से वैक्सीनेशन को बढ़ावा दिया जाए।

मुख्यमंत्री ने "टीका नहीं तो संजीवनी नहीं" का नया नारा दिया है। इसके साथ ही उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को वैक्सीनेशन के लिए अपील करने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि हमने पहले ही कहा था सभी दल सहयोग करें।

इसे भी पढ़ें:अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर भोपाल में होगा वैक्सीनशन महाअभियान, बनाये जा रहे 600 से ज्यादा सेंटर 

बता दें कि कमलनाथ ने रविवार को ट्वीट कर लोगों से किसी भी अफवाहों में नहीं आने और वैक्सीन लगवाने की अपील की थी। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “मध्य प्रदेश को कोरोनावायरस से मुक्त करना हम सबकी जिम्मेदारी है। कोरोना को हराने के लिए वैक्सीन ही सबसे बड़ा हथियार है। प्रदेशवासियों से मेरा विनम्र अनुरोध है कि वे 21 जून से शुरू हो रहे वैक्सीनेशन अभियान में टीका अवश्य लगवाएं। अफवाहों में न आएं, स्वस्थ मध्य प्रदेश बनाएं।”





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।