कमलनाथ का शिवराज सरकार पर आरोप, कहा- किसानों की आवाज दबाने का कर रही प्रयास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2021   13:47
कमलनाथ का शिवराज सरकार पर आरोप, कहा- किसानों की आवाज दबाने का कर रही प्रयास

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, “भोपाल में प्रशासन ने किसानों की आवाज कुचलने का प्रयास किया है। (सत्तारूढ़) भारतीय जनता पार्टी इस बात को समझ नहीं रही है कि हमारे देश में सबसे बड़ा वर्ग किसान ही है।”

इंदौर। नये कृषि कानूनों के खिलाफ  राजधानी भोपाल में प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर बल प्रयोग को लेकर मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार को कहा कि यह सरकार अन्नदाताओं की आवाज कुचलने का प्रयास कर रही है। गौरतलब है कि केंद्र सरकार के तीन नये कृषि कानूनों के विरोध में शनिवार को रैली निकालकर भोपाल में राजभवन का घेराव करने जा रहे आक्रोशित कांग्रेस कार्यकर्ताओं को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज के साथ आंसू गैस के गोले छोड़े थे और पानी की बौछार की थी।   

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के राजभवन घेराव पर पुलिस का लाठीचार्ज, बरसाए गए आंसू गैस के गोले 

प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष कमलनाथ ने इंदौर से करीब 50 किलोमीटर दूर देपालपुर कस्बे में संवाददाताओं से कहा, “भोपाल में प्रशासन ने किसानों की आवाज कुचलने का प्रयास किया है। (सत्तारूढ़) भारतीय जनता पार्टी इस बात को समझ नहीं रही है कि हमारे देश में सबसे बड़ा वर्ग किसान ही है।” उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार तीन नये कृषि कानूनों की आड़ में देश में खेती-किसानी के क्षेत्र के निजीकरण का प्रयास कर रही है।   कमलनाथ ने कहा, “तीनों काले कानूनों के खिलाफ लाखों किसान दिल्ली की सीमाओं पर कई दिन से आंदोलन कर रहे हैं। इन कानूनों से  हमारे प्रदेश और देश की अर्थव्यवस्था की तबाही होगी क्योंकि इनसे किसानों की क्रय शक्ति घटेगी जिससे बाजार चौपट हो जाएंगे।”   

इसे भी पढ़ें: पत्रकारों और मीडियाकर्मियों को नि:शुल्क कोरोना टीका लगाने कमलनाथ ने की मांग 

उन्होंने राज्य की शिवराज सिंह चौहान नीत भाजपा सरकार को जहरीली शराब से लोगों की मौत, महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों और बेरोजगारी के मुद्दों पर भी घेरा। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं प्रदेश की जनता से एक ही अपील करता हूं कि वह अपने भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए सच्चाई को पहचाने और सच्चाई का साथ दे।” कमलनाथ ने केंद्र सरकार के नये कृषि कानूनों के विरोध में किसानों की ट्रैक्टर रैली का देपालपुर में नेतृत्व किया। इस दौरान वह कृषक बहुल कस्बे में खुद ट्रैक्टर चलाते दिखाई दिए।   ट्रैक्टर रैली से पहले उन्होंने देपालपुर के चौबीस अवतार मंदिर में दर्शन किए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।