भाजपा के कुछ नेताओं की कोयला माफिया के साथ मिली भगत: ममता बनर्जी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 28, 2021   19:28
भाजपा के कुछ नेताओं की कोयला माफिया के साथ मिली भगत: ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोयला घोटाला मामले में अपने भतीजे व टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी को पूछताछ के लिये तलब किये जाने के बाद केंद्र की भाजपा नीत सरकार की आलोचना की। उन्होंने दावा किया कि भाजपा के कुछ मंत्रियों की कोयला माफिया से मिलीभगत है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोयला घोटाला मामले में अपने भतीजे व टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी को पूछताछ के लिये तलब किये जाने के बाद केंद्र की भाजपा नीत सरकार की आलोचना की। उन्होंने दावा किया कि भाजपा के कुछ मंत्रियों की कोयला माफिया से मिलीभगत है। उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार पर देश के संघीय ढांचे को तहस-नहस करने और राज्यों के अधिकारों को छीनने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया।

इसे भी पढ़ें: मुख्य सचिव राम सुभग सिंह की अद्यक्षता में फेयरलाॅन में हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक सेवा अधिकारियों के बुनियादी प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ समापन समारोह

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रमुख ने केंद्र के अधिनायकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए सभी मुख्यमंत्रियों की एक बैठक बुलाने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा, भाजपा और केंद्र सरकार हमसे राजनीतिक तौर पर नहीं लड़ सकती। पार्टी (भाजपा) विधानसभा चुनावों में हार गई थी और अब वे केंद्रीय एजेंसियोंका हमारे नेताओं जैसे अभिषेक बनर्जी व अन्य के खिलाफ उपयोग कर रहे हैं, लेकिन मैं उन्हें बता दूं, वे हमें डरा धमका नहीं सकते। हम उनके खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। ’ वह अपनी पार्टी की छात्र शाखा टीएमसी छात्र परिषद के स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं। अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि प्रवर्तन निदेशालय ने राज्य में एक कथित कोयला घोटाले से जुड़े धन शोधन मामले में पूछताछ के लिए कुछ लोगों विशेष रूप से टीएमसी के डायमंड हार्बर से सांसद अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी को तलब किया है।

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु विधानसभा ने केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया

बनर्जी ने कहा, “यदि आप (भाजपा) हमें प्रवर्तन निदेशालय का डर दिखाते हैं, तो हम एजेंसी को भाजपा नेताओं के खिलाफ सबूत भी भेजेंगे। भाजपा के मंत्रियों और नेताओं का एक धड़ा कोयला माफिया के साथ मिल कर काम कर रहा है। वे चुनाव के दौरान उनके द्वारा संचालित होटलों में भी रुके थे। बनर्जी ने कहा कि कोयले जैसे प्राकृतिक संसाधनों पर केंद्र सरकार का नियंत्रण होता है। उन्होंने कहा, कोयले में भ्रष्टाचार के लिए तृणमूल पर उंगली उठाने का कोई फायदा नहीं है। यह केंद्र के अधीन है। इसके मंत्रियों के बारे में क्या? बंगाल का कोयला पट्टी कहे जाने वाले आसनसोल क्षेत्र को लूटने वाले भाजपा नेताओं का क्या? इससे पहले सभा को संबोधित करते हुए, अभिषेक ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को टीएमसी से राजनीतिक तौर पर लड़ने और त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भाजपा को 2023 के विधानसभा चुनावों में हार से बचाने की चुनौती दी।

उन्होंने कहा, भाजपा और केंद्र को लगता है कि वे हमारे खिलाफ ईडी और सीबीआई का उपयोग करके हम पर दबाव डाल सकते हैं, लेकिन हम मजबूत होकर उभरेंगे। हम भाजपा से नहीं डरते। हम उनसे राजनीतिक तरीके से लड़ेंगे। मैं अमित शाह को हमारे खिलाफ राजनीतिक रूप से लड़ने की चुनौती देता हूं। साथ ही मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि वह त्रिपुरा में भाजपा सरकार को 2023 के विधानसभा चुनावों में निश्चित हार से बचाकर दिखाएं। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में पार्टी की शानदार जीत के बाद बनर्जी का कद बढ़ा है। ऐसे में उन्होंने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों की एक बैठक बुलाने का प्रस्ताव रखा, जिसमें केन्द्र द्वारा संघवाद का उल्लंघन किये जाने पर चर्चा होगी।

उन्होंने कहा, हर दिन, वे उद्धव ठाकरे और अरविंद केजरीवाल को परेशान कर रहे हैं। यह अस्वीकार्य है। अगर सभी मुख्यमंत्री सहमत होते हैं, तो मैं केंद्र द्वारा संघीय ढांचे के उल्लंघन पर चर्चा करने के लिए एक बैठक बुलाऊंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।