वायु प्रदूषण: दिल्ली ने ट्रक के प्रवेश पर प्रतिबंध को बढ़ाया, निर्माण कार्य पर लगी पांबदी हटाई गई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   07:53
वायु प्रदूषण: दिल्ली ने ट्रक के प्रवेश पर प्रतिबंध को बढ़ाया, निर्माण कार्य पर लगी पांबदी हटाई गई

पर्यावरण विभाग द्वारा जारी एक आदेश में कहा गया, बेहद खराब वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान को ध्यान में रखते हुए और वाहनों से होने वाले व्यापक प्रदूषण, खासकर जब वायु की गुणवत्ता बहुत खराब है, के मद्देनजर यह महसूस किया जाता है कि दिल्ली में वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध को और बढ़ाने की आवश्यकता है।

नयी दिल्ली|  दिल्ली सरकार ने वायु प्रदूषण से निपटने और स्वास्थ्य पर पड़ने वाले इसके दुष्प्रभाव के मद्देनजर रविवार को गैर-जरूरी सामानों वाले ट्रक के शहर में प्रवेश पर प्रतिंबध को विस्तार दिया जबकि उसके कर्मचारियों को 26 नवंबर तक वर्क फ्रॉम होम (घर से काम) जारी रखने का आदेश दिया।

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में निर्माण कार्य और तोड़-फोड़ की गतिविधियों पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया गया है।

इसे भी पढ़ें: वायु प्रदूषण से निपटने के लिए डीडीएमए ने मेट्रो और बसों में खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति दी

वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) के निर्देशों के मुताबिक, अगले आदेश तक स्कूल और कॉलेज बंद रहेंगे।

पर्यावरण विभाग द्वारा जारी एक आदेश में कहा गया, बेहद खराब वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान को ध्यान में रखते हुए और वाहनों से होने वाले व्यापक प्रदूषण, खासकर जब वायु की गुणवत्ता बहुत खराब है, के मद्देनजर यह महसूस किया जाता है कि दिल्ली में वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध को और बढ़ाने की आवश्यकता है।

इसमें कहा गया, दिल्ली में आवश्यक सामग्री लाने वाले ट्रक के अलावा अन्य ट्रक के प्रवेश को 26 नवंबर तक रोका जाए।

आदेश के मुताबिक, केवल आवश्यक एवं आपातकालीन सेवाओं से जुड़े कार्यालय को छोड़कर, दिल्ली सरकार/स्वायत्त संस्थान/निगमों के कार्यालय 26 नवंबर तक बंद रहेंगे। हालांकि, सभी अधिकारी/कर्मचारी घर से काम करना जारी रखेंगे।

इसे भी पढ़ें: व्हाट्सऐप अकाउंट हैक कर लोगों को ठगने के आरोप में नाइजीरियाई नागरिक गिरफ्तार





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।