देश में कोविड-19 महामारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या में लगातार गिरावट आई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 26, 2020   16:48
देश में कोविड-19 महामारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या में लगातार गिरावट आई

मंत्रालय ने बताया कि देश में इस समय 2,81,667 मरीजों का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 2.77 प्रतिशत है। उसने बताया कि देशभर में इस बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 97,40,108 हो गई है।

नयी दिल्ली। देश में कोविड-19 महामारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या में तेजी से वृद्धि के साथ ही उपचाराधीन मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट आई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय ने बताया कि देश में इस समय 2,81,667 मरीजों का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 2.77 प्रतिशत है। उसने बताया कि देशभर में इस बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 97,40,108 हो गई है। मंत्रालय ने बताया कि सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ठीक होने की दर 90 प्रतिशत से अधिक पहुंच गई है। 

इसे भी पढ़ें: साल 2020 में कोरोना महामारी के बीच मनाए गए त्यौहार तो मास्क में दिखाई दिए भक्त

मंत्रालय ने बताया कि पिछले 29 दिनों से देश में प्रतिदिन ठीक होने वाले लोगों की संख्या संक्रमण के प्रतिदिन सामने आने वाले मामलों की संख्या से अधिक है। इस महामारी से ठीक होने के बाद कल और 22,274 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी दी गई। उसने बताया कि इस बीमारी से ठीक हुए लोगों में से 73.56 प्रतिशत दस राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से हैं। केरल में एक दिन में सबसे अधिक 4,506 लोग स्वस्थ हुए हैं और इसके बाद पश्चिम बंगाल में 1,954 और महाराष्ट्र में 1,427 लोग ठीक हुए हैं। मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को देश में इस महामारी से 251 और लोगों की मौत हुई है। मौत के नये मामलों में से 85.26 प्रतिशत मामले दस राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से है। इनमें से महाराष्ट्र में सबसे अधिक 71, इसके बाद पश्चिम बंगाल में 31 और दिल्ली में 30 मरीजों की मौत हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।