वन क्षेत्र में वन्यजीवों से छेड़छाड़ जैसी घटनाओं को रोकने के लिए सख्त कदम उठाये : गहलोत

Gehlot
मुख्यमंत्री निवास पर वन विभाग की समीक्षा बैठक को सम्बोधित करते हुए गहलोत ने अभ्यारण्य घूमने आने वाले पर्यटकों को भी वन्यजीवों की सुरक्षा के प्रति जागरूक करने को कहा। गहलोत ने राज्य में इको-टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक जिले में लव-कुश वाटिका विकसित करने के निर्देश दिए।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को अधिकारियों को वन क्षेत्र में वन्यजीवों से छेड़छाड़ जैसी घटनाओं को रोकने के लिए सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री निवास पर वन विभाग की समीक्षा बैठक को सम्बोधित करते हुए गहलोत ने अभ्यारण्य घूमने आने वाले पर्यटकों को भी वन्यजीवों की सुरक्षा के प्रति जागरूक करने को कहा। गहलोत ने राज्य में इको-टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक जिले में लव-कुश वाटिका विकसित करने के निर्देश दिए।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर का मुद्दा गंभीर, लेकिन उस पर कोई बात नहीं करना चाहता: हिना रब्बानी खार

उन्होंने कहा कि वाटिकाओं में वन एवं वन्यजीवों से संबंधित ऐसे मॉडल स्थापित करें, जिनसे बच्चों को पर्यावरण व वन्यजीव संरक्षण की शिक्षा मिल सकें। मुख्यमंत्री ने विभाग की विभिन्न परियोजनाओं की भी समीक्षा की और अधिकारियों को सभी घोषणाओं को समय पर सुनियोजित तरीके से पूरा कराने के निर्देश दिए। वन एवं पर्यावरण मंत्री हेमाराम चौधरी ने कहा कि विभाग द्वारा बजट घोषणाओं को समय पर पूरा करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। बैठक में विभाग के वरिष्ठ अधिकारी मौजद थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़